पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Defense Minister Worshiped The Carbine Made In SAF, Virtually Integration In Parachute Factory, 3 Out Of 7 Companies Were Headquartered In Kanpur, SAF, OPF, Defence Minister Rajnath Singh, Satish Mahana, Gliders India Limited, Kanpur

कानपुर... रक्षा कंपनियों का आधिकारिक उद्घाटन:रक्षा कंपनियों को 65 हजार करोड़ के उत्पादन का लक्ष्य, पैराशूट फैक्ट्री में हुआ वर्चुअली इनॉग्रेशन, 7 कंपनियों में से 3 के मुख्यालय कानपुर में

कानपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर स्थित ओपीएफ में आयोजित समारोह में ग्लाइडर्स ‌इंडिया लिमिटेड की वेबसाइट भी लांच की गई। - Money Bhaskar
कानपुर स्थित ओपीएफ में आयोजित समारोह में ग्लाइडर्स ‌इंडिया लिमिटेड की वेबसाइट भी लांच की गई।

शुक्रवार का विजयदशमी के मौके पर कानपुर स्थित ऑर्डिनेंस पैराशूट फैक्ट्री (ओपीएफ) में भी वचुअर्ली कार्यक्रम आयोजित हुआ। कानपुर के एसएएफ में बनी जेवीपीसी का रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पूजन कर देश भर की 41 आयुध निर्माणियों का विलय कर बनाई गई 7 रक्षा कंपनियों का आधिकारिक उद्घाटन किया। कानपुर स्थित ओपीएफ में आयोजित समारोह में ग्लाइडर्स ‌इंडिया लिमिटेड की वेबसाइट भी लांच की गई।

वेबसाइट और लोगो लांच
जीटी रोड स्थित ट्रूप कंफर्ट के मुख्यालय में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर मौजूद औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि देश की 7 रक्षा कंपनियों में तीन के मुख्यालय कानपुर में हैं। यह गर्व की बात है। ट्रूफ कंफर्टस लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एसके सिन्हा ने कंपनी की वेबसाइट और अंजू सिन्हा ने कंपनी के लोगो का अनावरण किया। फील्ड गन फैक्ट्री में आयोजित कार्यक्रम में मंडलायुक्त डा. राज शेखर, आयकर आयुक्त विजय चड्ढा, फील्ड गन के प्रभारी अधिकारी आरके सागर भी मौजूद रहे।

रक्षा कंपनी का नया लोगो किया गया लांच।
रक्षा कंपनी का नया लोगो किया गया लांच।

65 हजार करोड़ उत्पादन का लक्ष्य
वचुअर्ली इनॉग्रेशन के मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सभी कर्मचारियों के सुरक्षित रहेंगे। कर्मचारी दो साल तक प्रतिनियुक्ति पर रहेंगे। पहली बार रक्षा एक्सपोर्ट में नया कीर्तिमान बनाया। वर्ष 2024 तक 1.75 लाख करोड़ उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। इसमें 35 हजार करोड़ का निर्यात भी शामिल होगा।

आयुध निर्माणी बोर्ड का स्वरूप बदल चुका है। इनका 200 साल का इतिहास है। आयुध निर्माणियां उत्पादन से अब मुनाफा कमाने वाली इकाई बनाई जाएंगी। कंपनियों को 65 हजार करोड़ रुपए के उत्पादन लक्ष्य दिया गया है।

खबरें और भी हैं...