पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

‘स्पंदन’ में परखी छात्रों के सोचने की क्षमता:आईआईटी कानपुर में हिंदी पखवाड़ा के अवसर पर हुआ प्रतियोगिताओं का आयोजन

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हिंदी पखवाड़ा के अवसर पर आईआईटी कानपुर में ‘स्पंदन’ आयोजित कराया। - Money Bhaskar
हिंदी पखवाड़ा के अवसर पर आईआईटी कानपुर में ‘स्पंदन’ आयोजित कराया।

हिंदी पखवाड़ा के अवसर पर हिंदी साहित्य सभा,राज्यभाषा प्रकोष्ठ एवं शिवानी सेंटर ने आईआईटी कानपुर में ‘स्पंदन’ आयोजित कराया। इसके अंतर्गत दो चरणों में चार प्रतियोगिताएं कराई गई। इसका प्रारंभ पहले सप्ताह में कहानी एवं कविता लेखन प्रतियोगिताओं से किया गया जिनमें यूजी तथा पीजी के छात्रों ने प्रतिभाग लिया। पहले चरण का समापन ‘काव्यांजलि’ के साथ हुआ जिसमें छात्रों ने अपनी स्वरचित कविताओं के माध्यम से हॉल में मंत्रमुग्ध वातावरण बना दिया।

बेहतरी से प्रकट किए अपने तर्क

‘स्पंदन’ के तहत दूसरे चरण का आगाज माह के अंतिम सप्ताह में ‘तर्क’ की प्रतियोगिता के साथ हुआ| इसमें प्रतिभागी के समक्ष एक चित्र प्रस्तुत किया जाता जिस पर उन्हें 30 सेकंड सोचने के बाद दो मिनट में अपने तर्क देने थे। इस प्रतियोगिता के जरिए छात्रों के जल्दी सोचने और उनके विचारों को बेहतरी के साथ प्रकट करने की क्षमता का विकास किया गया।

छात्रों ने पढ़ी स्वरचित कविताएं

इसके बाद चौथी प्रतियोगिता ‘संसदीय वाद-विवाद’ थी| इसमें दो पक्ष बनाए गए। पक्ष और विपक्ष की तरफ से बेहतरीन तर्क दिए गए जिससे जजों में भी असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई। माह के अंतिम दिन आईआईटी कानपुर के निर्देशक अभय करंदिकर ने पुरस्कार वितरण किया। इस दौरान छात्रों ने कविताएं पढ़ी और इसी के साथ हिंदी पखवाड़े का समापन हो गया।

खबरें और भी हैं...