पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कानपुर मेडिकल कॉलेज में अब तक 106 डॉक्टर कोरोना संक्रमित:47 मेडिकल स्टाफ भी संक्रमित, कांशीराम और उर्सला में भी कई डॉक्टर निकले कोरोना पॉजिटिव

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज - Money Bhaskar
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज

कानपुर शहर में कोरोना की तीसरी लहर का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में अब तक 106 सीनियर, जूनियर, रेजिडेंट डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए है। साथ ही 47 मेडिकल स्टाफ भी इसकी चपेट आ गए है। आईआईटी के बाद सबसे ज्यादा संक्रमित मेडिकल कॉलेज में ही पाए गए है। ऐसे ही अगर डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए, तो मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों में काफी पेशानी हो सकती है।

जीएसवीएम के प्राचार्य डॉ संजय काला ने बताया, सबसे ज्यादा असर पैथोलॉजी विभाग पर पड़ा है। वहां के ज्यादातर डॉक्टर और स्टाफ संक्रमित पाए गए है। कई विभागाध्यक्षों को भी कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया है। सभी लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है।

ओपीडी कम करनी पड़ सकती है

डॉ संजय काला ने कहा कि जिस तरह से डॉक्टर संक्रमित हो रहे है। उसे देखते हुए ओपीडी में मरीजों की संख्या कम करने की व्यवस्था सोमवार से लागू कर दी गई है। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य ने बताया कि जल्द ही मोबाइल नंबर जारी किया जाएगा। जिससे रोगी फोन पर अपनी स्थिति बताकर अपाइमेंट ले सकेंगे। आज से सर्जरी और मेडिसिन में सौ-सौ रोगी तथा अन्य विभागों की ओपीडी में 50-50 रोगी देखे जाएंगे।

स्टाफ और डॉक्टर की कमी पहले से ही थी

हैलट अस्पताल में वैसे पहले से ही स्टाफ की कमी उसके ऊपर से 106 डॉक्टर्स के संक्रमित होने से हैलट में काफी दिक्कत खड़ी हो गयी है। डॉ संजय काला ने बताया, कुछ डॉक्टर तो रिकवर हुए है, लेकिन अभी वह लोग काम करने की स्तिथि में नहीं है। ऐसे में यहां नॉन कोविड मरीजों की देखभाल रखने में काफी दिक्कत हो रही है।

मेडिकल कॉलेज और संबद्ध अस्पताल में स्टाफ संक्रमित
मेडिकल कॉलेज और संबद्ध अस्पतालों के स्टाफ में कोरोना का संक्रमण 40 फीसदी की दर से फैल रहा है। मेडिसिन के डॉक्टर की कार्डियोलॉजिस्ट पत्नी समेत पूरा परिवार कोरोना संक्रमित हो गया है। इसके अलावा पांच विभागाध्यक्षों और 22 रेजीडेंट डॉक्टर में भी कोरोना की पुष्टि हुई है।

कांशीराम और उर्सला के डॉक्टर संक्रमित

सीएमओ डॉ नेपाल सिंह के अनुसार, सिर्फ मेडिकल कॉलेज ही नहीं, शहर के कांशीराम और उर्सला अस्पताल के डॉक्टर भी संक्रमित पाए गए है। कांशीराम में पांच और उर्सला में तीन डॉक्टर कोरोना संक्रमित है। विभाग द्वारा लोगों ने शासन से डॉक्टरों की हो रही कमी को पूरा करने के लिए कुछ डॉक्टरों को स्टैंडबाई मोड करने का फैसला लिया है। जैसे ही शासन से अनुमति मिल जाएगी यह काम शुरू कर दिया जाएगा। यह शहर के सभी कोविड अस्पतालों के साथ किया जाएगा।

हैलट और कांशीराम में कुल 18 मरीज भर्ती
अब तक शहर के दो अस्पतालों में 18 संक्रमित मरीजों को भर्ती किया गया है। सभी की हालत ठीक बताई जा रही है। इनमे से तीन मरीजों को ही ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी है।

खबरें और भी हैं...