पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अखिलेश हार से बचने के लिए पिता को करहल लाए:मंत्री बघेल ने कहा- अगर करहल में नहीं घेरता तो ये अपने 4-5 हजार वोटों से हारे प्रत्याशियों को जिता लेते

झांसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय कानून मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल शनिवार को झांसी पहुंचे। यहां एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "करहल से उनके और अखिलेश यादव के चुनाव लड़ने से सूबे में पाल-बघेल वर्सेज यादव चुनाव हुआ। हमने डिंपल यादव, रामगोपाल, शिवपाल, धर्मेंद्र, अक्षय, तेजप्रताप जैसे दिग्गज नेताओं को करहल में खूंटा से बांधकर रखा। नहीं तो यह सब 17 दिन में 408 सभाएं करते। 4-5 हजार वोटों से हारने वाले अपने प्रत्याशियों को जिता लेते।

बघेल ने आगे कहा, "अखिलेश ने गलती कर दी। अपने बूढ़े और बीमार पिता मुलायम सिंह को करहल लाए। पिता को लाकर बह्मास्त्र तो चला दिया। मगर, इससे माहौल बना कि यादव बाहुल्य सीट पर चुनाव फंसा है। हार रहे हैं। इसलिए पिता को लेकर आए हैं। क्योंकि, सिर्फ लीड बढ़ाने के लिए बूढ़ा और बीमार पिता नहीं आते। वह हार से बचाने के लिए आते हैं। इसलिए हम उनको करहल में घेरने में सफल हुए।"

लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर की 297वीं जयंती समारोह में मौजूद गड़रिया समाज के लोग।
लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर की 297वीं जयंती समारोह में मौजूद गड़रिया समाज के लोग।

"जितनी हमारी आबादी, उतनी हिस्सेदारी नहीं है"
लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर की 297वीं जयंती समारोह में शामिल बघेल ने कहा, "गड़रिया समाज यूपी की 403 सीटों पर है। अगर लहर का चुनाव न हो तो जीत और हार का बटन इसी समाज के पास है। जितनी हमारी अबादी है, उतनी हिस्सेदारी नहीं है। ये मैं मंत्री होते हुए मंच से बोलने की हिम्मत कर पा रहा हूं।"

"बिना दबाव के कुछ नहीं मिलता"
उन्होंने आगे कहा, "यूपी मंत्रीमंडल, दिल्ली मंत्रीमंडल, आयोग, लोकसभा, विधानसभा, विधान परिषद के ताज में बुंदेलखंड और कानपुर मंडल का एक नगीना लगना चाहिए। ये कलयुग है, बिना दबाव के कुछ नहीं मिलता। जो जितना जिंदाबाद लगाता है, उससे ज्यादा जो मुर्दाबाद लगाना सीख जाता है, वो अपने हक और वजूद को हासिल कर लेता है।"

दीप जला कर कार्यक्रम की शुरुआत करते मंत्री बघेल। यह समारोह अखिल भारतीय पाल-बघेल-धनगर महासभा ने किया था।
दीप जला कर कार्यक्रम की शुरुआत करते मंत्री बघेल। यह समारोह अखिल भारतीय पाल-बघेल-धनगर महासभा ने किया था।

"बच्चों को पढ़ाने के लिए अपने आपको मिटा दो"
मंत्री बघेल ने कहा, "आज के समय में गुड क्वालिटी एजुकेशन की जरूरत है। दुनिया में कोई काम अपनी हैसियत से बढ़कर करोगे तो बर्बाद हो जाओगे। लेकिन, एक काम है। इसमें हैसियत मिटा दोगे तो आबाद हो जाओगे। इसलिए अपने बच्चों की पढ़ाई पर अपने आपको मिटा दो। एकदिन सबकुछ वापस आ जाएगा।"

खबरें और भी हैं...