पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

झांसी में मुंशी की गोली मारकर हत्या:छोटे भाई को फोन कर बताया आरोपी का नाम, 20 दिन पहले भी हुई थी फायरिंग

झांसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झांसी में दिनदहाड़े वकील के मुंशी फजल अहमद की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मुंशी शनिवार सुबह बाइक से कोर्ट जा रहा था। तभी डॉ. राजेंद्र प्रसाद कन्या इंटर कॉलेज के पास पीछा करते हुए बाइक से दो बदमाश आए। मोड़ पर चलती बाइक पर पीछे बैठे बदमाश ने तमंचा से फजल पर दो फायर किए। एक गोली उसके पेट में आरपार हो गई।

बदमाश बिना नंबर की बाइक पर सवार थे। एक बदमाश ने हेलमेट और दूसरे ने मुंह पर गमछा बांध रखा था। गोली लगने से घायल फजल अहमद छोटे भाई नजर को फोन किया। वह मौके पर पहुंचा तो बताया कि कल्ला उर्फ कालीचरण ने गोली मारी है। भाई उसे मेडिकल कॉलेज में ले गए। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने एक आरोपी को हिरासत में लिया है। मामले में पुलिस की लापरवाही सामने आई है। करीब 20 दिन पहले फजल पर गोली चलाई गई थी। लेकिन पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया।

हत्या के बाद मौके पर पहुंचे डीआईजी जोगेंद्र कुमार व एसएसपी शिवहरी मीना।
हत्या के बाद मौके पर पहुंचे डीआईजी जोगेंद्र कुमार व एसएसपी शिवहरी मीना।

6 साल तक साथ रहे युवक और महिला

दतिया गेट बाहर के एवन कॉलोनी निवासी फजल अहमद (38) पुत्र जमील अहमद कचहरी में एक वकील के पास मुंशी था। उसकी बीएचईएल आरामशीन निवासी एक महिला से ताल्लुकात थे। दोनों करीब 6 साल तक साथ रहे।

महिला ने फजल के खिलाफ जबरन रेप और धर्म परिवर्तन कराने का केस दर्ज कराया था। पुलिस ने फजल को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। 7 माह जेल में रहने के बाद फजल की नवंबर 2021 में हाईकोर्ट से जमानत हुई थी

प्लाट को लेकर था विवाद

छोटे भाई नजर ने बताया कि महिला के पहले पति के दो बच्चे हैं। इसके बाद वह फजल के साथ रही। अब वह बबीना के कालीचरण के साथ रह रही थी। फजल और महिला के नाम दो प्लाट और एक मकान है। इसी प्रॉपर्टी को लेकर विवाद चल रहा है।

फजल अहमद कचेहरी में एक वकील के पास मुंशी था। फजल और महिला के नाम दो प्लाट व एक मकान है। इसी प्रॉपर्टी को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा है।
फजल अहमद कचेहरी में एक वकील के पास मुंशी था। फजल और महिला के नाम दो प्लाट व एक मकान है। इसी प्रॉपर्टी को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा है।

कोर्ट में दायर की थी शिकायत

छोटे भाई नजर ने बताया कि करीब 20 दिन पहले हंसारी क्रॉसिंग पर फजल अहमद पर गोली चलाई गई थी। दो गोली चलाई थी, इसमें फजल बच गया था। पुलिस को शिकायत दी। बीएचईएल चौकी और सदर थाना पुलिस के फजल ने चक्कर काटे, लेकिन पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया। शुक्रवार को फजल ने कोर्ट में इस्तगासा दायर किया था। फजल का निकाह करीब दस साल पहले शबाना से हुआ था। 6 साल का एक बेटा अजवान है।

वकील की भूमिका संदिग्ध

नजर ने बताया कि उसने कालीचरण, महिला और एक वकील के खिलाफ कोतवाली थाना तहरीर दी है। आरोप है कि रेप केस में वकील अब तक चार लाख रुपए ले चुका था। समझौता के लिए दस लाख रुपए मांगे जा रहे थे। फजल के पिता जलील अहमद सिंचाई विभाग में ड्राफ्ट मैन के पद पर कार्यरत थे। उनकी मौत के बाद छोटे भाई को नौकरी मिल गई। तीन भाइयों में फजल दूसरे नंबर का था। उससे छोटी एक बहन है।

खबरें और भी हैं...