पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

झांसी डिफेंस कॉरिडोर की पहली यूनिट अगले माह से बनेगी:बीडीएल ने राजस्व विभाग के जरिए आवंटित जमीन चिह्नित की, यूनिट की डिजाइन तैयार

झांसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झांसी में बनने वाले डिफेंस कॉरिडोर की पहली यूनिट का निर्माण अगले माह से शुरू हो जाएगा। सितंबर में कॉरिडोर कागज से जमीन पर नजर आने लगेगा। इसके लिए भारत डायनामिक्स लिमिटेड (बीडीएल) कंपनी तैयारियों को अंतिम रूप दे रही है।

राजस्व विभाग ने कॉरिडोर के लिए आवंटित जमीन चिह्नित कर कंपनी को सौंप दी है। बनने वाली पहली यूनिट की डिजाइन भी तैयार हो गई। सितंबर से निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। करार के अनुसार, 2024 तक उत्पादन शुरू होने लगेगा।

183 हेक्टेयर जमीन आवंटित
19 नवंबर 2021 को वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झांसी आए थे। उन्होंने डिफेंस कॉरिडोर का शिलान्यास किया था। इसके लिए बीडीएल कंपनी को जनपद की गरौठा तहसील में 183 हेक्टेयर जमीन आवंटित की गई थी।

शिलान्यास के बाद पिछले करीब 8 माह तक जमीनी स्तर पर कोई काम नहीं हुआ। कुछ समय से काम ने रफ्तार पकड़ी है। बीडीएल के अफसरों का गरौठा में आवागमन तेजी से बढ़ गया है।

बनेंगी एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल
फिलहाल राजस्व विभाग के जरिए कंपनी ने अपनी लिए आवंटित जमीन चिह्नित कर ली है। इसके हर कोने में चिह्न भी लगा दिए गए हैं। सिविल वर्क की टेंडर प्रक्रिया अंतिम दौर में है। 15 सितंबर के बाद यूनिट की स्थापना काम शुरू होने की उम्मीद है। कंपनी यहां 400 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।

झांसी आए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पहले ही कह चुके हैं कि डिफेंस कॉरिडोर में सेना के लिए एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल बनाई जाएगी।

2024 में शुरू करना है उत्पादन
17 नवंबर 2021 को बीडीएल को जमीन आवंटित की गई थी। दो दिन बाद प्रधानमंत्री ने शिलान्यास किया। करार के अनुसार, कंपनी को 36 महीने में यूनिट का निर्माण कर उत्पादन शुरू करना है। यानी नवंबर 2024 तक उत्पादन शुरू हो जाएगा।