पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

10 तस्वीरों में देखिए झांसी की शस्त्र प्रदर्शनी:देश व विदेश में बनी हाइटेक राइफल को देखने के लिए दूर-दूर से पहुंच रहे लोग

झांसी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झांसी के हाथी ग्राउंड पर तीनों सेनाओं ने शस्त्र प्रदर्शनी लगाई हैं। यहां बच्चे हथियारों पर चढ़कर फोटो खिचवा रहे थे। एक नन्हा बच्चा फोटो सेशन के दौरान राइफल को निहारते हुए। - Money Bhaskar
झांसी के हाथी ग्राउंड पर तीनों सेनाओं ने शस्त्र प्रदर्शनी लगाई हैं। यहां बच्चे हथियारों पर चढ़कर फोटो खिचवा रहे थे। एक नन्हा बच्चा फोटो सेशन के दौरान राइफल को निहारते हुए।

राष्ट्ररक्षा समर्पण पर्व झांसी जलसा के तहत आर्मी, एयरफोर्स और नेवी ने मिलकर अपने अस्त्र-शस्त्रों की प्रदर्शनी लगाई है। ललितपुर रोड पर हाथी ग्राउंड ये प्रर्दशनी 3 दिनों के लिए लगाई गई है। शुक्रवार को प्रदर्शनी का समापन होगा।

इस दौरान लोग प्रदर्शनी में जाकर सेल्फी और फोटो-वीडियो बना रहे हैं। तीनों सेनाओं के जवान लोगों को संबंधित हथियार के बारे में जानकारी भी दे रहे हैं। टी-90 भीस्मा, अर्जुन जैसे कई टैंक, हवाई हमलों से सुरक्षा देने वाले एडी हथियार, बोफोर्स जैसी आटर्ली गन, आकाश, आरवीवी, आर-73 जैसी मिसाइल, हाइटेक राइफल्स, नैवी के विक्रांत जैसे जहाजों के मॉडल आदि हथियार रखे गए हैं।

10 फोटों में देखिए प्रदर्शनी का नजारा।

शस्त्र प्रदर्शनी का शुभारंभ बुधवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने किया था। उन्होंने जिस राइफल को उठाकर निशाना साधा था, वो इजराइल की टबोर असॉल्ट राइफल है। जिसका 400 मीटर तक अचूक निशाना है। लेजर लाइट होने के वजह से इसका निशाना अचूक है। इसकी खासियत है कि पानी में डालकर भी फायर कर सकते हैं।
शस्त्र प्रदर्शनी का शुभारंभ बुधवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने किया था। उन्होंने जिस राइफल को उठाकर निशाना साधा था, वो इजराइल की टबोर असॉल्ट राइफल है। जिसका 400 मीटर तक अचूक निशाना है। लेजर लाइट होने के वजह से इसका निशाना अचूक है। इसकी खासियत है कि पानी में डालकर भी फायर कर सकते हैं।
यह सेना का टी-90 भीष्मा टैंक है। रूस व फ्रांस की सहायता से टैंक में बेहतर सुधार कर इसे विकसित किया गया है। यह दुश्मन को 5 किलोमीटर दूरी से ध्वस्त कर सकता है।
यह सेना का टी-90 भीष्मा टैंक है। रूस व फ्रांस की सहायता से टैंक में बेहतर सुधार कर इसे विकसित किया गया है। यह दुश्मन को 5 किलोमीटर दूरी से ध्वस्त कर सकता है।
ये आकाश मिसाइल हैं। जमीन से हवा में 25 किलोमीटर तक सटीक निशाना है।
ये आकाश मिसाइल हैं। जमीन से हवा में 25 किलोमीटर तक सटीक निशाना है।
हवाई हमलों से सुरक्षा देने वाले ये हथियार एडी वैपन हैं। ऑटोमेटिक ये हथियार खतरा भापकर दुश्मन के मसूबों पर पानी फेरने में सक्षम हैं।
हवाई हमलों से सुरक्षा देने वाले ये हथियार एडी वैपन हैं। ऑटोमेटिक ये हथियार खतरा भापकर दुश्मन के मसूबों पर पानी फेरने में सक्षम हैं।
छोटी से लेकर बड़ी करीब 15 से ज्यादा मिसाइलें प्रदर्शनी में रखी गई। जो फाइटर प्लेट में लोड रहती है।
छोटी से लेकर बड़ी करीब 15 से ज्यादा मिसाइलें प्रदर्शनी में रखी गई। जो फाइटर प्लेट में लोड रहती है।
देश व विदेश में बनी हाइटेक राइफल रखी है। प्रदर्शनी में सबसे ज्यादा भीड़ इसी एरिया में थी और लोग हथियार के बारे में जानने को आतुर थे।
देश व विदेश में बनी हाइटेक राइफल रखी है। प्रदर्शनी में सबसे ज्यादा भीड़ इसी एरिया में थी और लोग हथियार के बारे में जानने को आतुर थे।
नेवी के युद्धक जहाजों के माडल प्रदर्शनी में रखे गए। इसमें विक्रांत, सुतलेज, मगर, आईएनएस दिल्ली जैसे कई जहाजों के मॉडल थे।
नेवी के युद्धक जहाजों के माडल प्रदर्शनी में रखे गए। इसमें विक्रांत, सुतलेज, मगर, आईएनएस दिल्ली जैसे कई जहाजों के मॉडल थे।
राइफल के बगल में सेना के उपकरण भी रखे थे। जैसे दीवार को तोड़ने व अन्य कामों में इस्तेमाल किया जाता है।
राइफल के बगल में सेना के उपकरण भी रखे थे। जैसे दीवार को तोड़ने व अन्य कामों में इस्तेमाल किया जाता है।
प्रदर्शनी में तीनों सेनाओं ने अपने-अपने हथियारों को रखा। जिन्हें देखकर लोगों के चेहरे खिल उठे।
प्रदर्शनी में तीनों सेनाओं ने अपने-अपने हथियारों को रखा। जिन्हें देखकर लोगों के चेहरे खिल उठे।