पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

मेडिकल कालेज की महिला डॉक्टर ने लिखी किताब:सड़क दुर्घटना में अपने भाई को खो चुकी एक डॉक्टर ने लिखी सैविज बनी बेस्ट सेलर; सड़क दुर्घटनाओं में कैसे बिखर जाता है परिवार

झांसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ रचना चौरसिया ने अपनी किताब में बताया है कि कैसे  जब सड़क दुर्घटनाओं में  परिवार के सदस्य की मौत होती है तो परिवार कैसे बिखर जाता - Money Bhaskar
डॉ रचना चौरसिया ने अपनी किताब में बताया है कि कैसे जब सड़क दुर्घटनाओं में परिवार के सदस्य की मौत होती है तो परिवार कैसे बिखर जाता

मेडिकल कॉलेज झांसी की महिला डॉक्टर द्वारा लिखी हुई सैविज को विश्लेषक व पाठकों दोनो पसंद कर रहे है। ये पुस्तक इस साल रिलीज़ हुई फिक्शन बुक्स में बेस्ट सेलर बनी हुई है। सैविज भारत में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में कैसे परिवार बिखर जाता है इसको बताती है,और सभी को सड़क नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करती है। डॉक्टर भी सड़क दुर्घटना में अपने भाई को खो चुकी है।

जज्बातों को बेहतरीन तरीके से बयान करती है ये पुस्तक

डॉ रचना चौरसिया की पुस्तक में एक डॉक्टर की कहानी है जिसका नाम सिद्धार्थ वर्मा है। जो अपनी पत्नी और बेटी को एक रोड एक्सीडेंट में खो देता हैं। और उसके बाद वो सीरीयल किलर बन जाता है और वो हर उस ट्रक ड्राइवर को मारने लगता है जो ट्रैफ़िक नियनों को तोड़ता है। डॉक्टर को पुलिस पकड़ लेती है, और अदालत द्वारा उसे फांसी की सजा सुना दी जाती है। फिर एक लड़की उस डॉक्टर के लिए पुनर्विचार याचिका दाखिल करती है इसमें वो लड़की अलिशा एक युवा वकील के रूप में बड़ी मजबूती के साथ केस को लड़ते हुए दिखाया है। इस किताब में हर एक पात्र के कैरेक्टर को बड़ी खूबसूरती के साथ लिखा गया जो जज्बातों को बेहतरीन तरीके से बयान करती है ये पुस्तक सबको सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करती है। सड़क दुर्घटना में मौत दुखद होता है।

सड़क दुर्घटना में मौत से परिवार तबाह हो जाता है

मेडिकल कॉलेज झांसी में रेडियोलॉजी विभाग की डॉ रचना चौरसिया कहती है कि मेडिकल कॉलेज में विशेषकर सीटी स्कैन और एक्स-रे विभाग में कई एक्सीडेंट के पेशेंट आते हैं जिन्हे देखकर और उन्हें रोते बिलखते परिजनों को देखकर दुःख होता है , ज्यादातर ऐसे केशो में लोगों की मौत हो जाती है। मेरे भाई जो ईएनटी डॉक्टर थे उनकी भी मौत एक सड़क दुर्घटना में 2009 में क्या हुई थी. इस किताब में कई रोड एक्सीडेंट का उल्लेख किया गया है जिसमें लेडी वकील अलीशा का सामना ऐसे कई परिवारों से हुआ जिनका परिवार रोड एक्सीडेंट में तबाह हो गया। इस प्रकार के कई केस मेडिकल कॉलेज में आते हैं।

चार साल में पूरी हुई किताब

डॉक्टर ने बताया कि इस किताब 4 साल पहले इस किताब को लिखना शुरू किया था। मेडिकल सेवा और पारिवारिक जिम्मेदारी के बाद रात में जो थोड़ा समय मिलता था, उसमें ही लिखा करती थी। मगर फिर पिछले साल हुए लॉकडाउन के समय में इस को पूरा किया।

खबरें और भी हैं...