पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दरोगा पर हमले का VIDEO:जालौन में ग्रामीणों ने घेरकर थप्पड़ मारे, जमीन पर गिराया; साथ आया पुलिसकर्मी भीड़ देखकर दूर खड़ा हो गया

जालौन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जालौन में ग्रामीणों ने एक दरोगा की पिटाई कर दी। उसे दौड़ाकर पकड़ा, फिर जमीन पर गिराकर थप्पड़ मारे। दरोगा के साथ एक पुलिसकर्मी भी आया था जो किनारे खड़े होकर पूरी घटना को देखता रहा। घटना कैलिया थाने के पहाड़ गांव की गुरुवार है। दरोगा का नाम ज्ञानेश्वर है। रविवार को इसका वीडियो सामने आया है।

वीडियो में दिख रहा है कि 10-11 लोग दरोगा को दौड़ा रहे हैं। वह हेलमेट लगाए हुए है। इसके बाद ग्रामीण पकड़कर नीचे गिरा देते हैं। पीटने लगते हैं। दरोगा के साथ आया दूसरा पुलिसकर्मी पहले उसे बचाने की कोशिश करता है। लेकिन, भीड़ बढ़ने पर वह किनारे खड़ा हो जाता है।

पिटाई करने वालों में दो महिलाएं भी
पिटाई करने वालों में दो महिलाएं भी हैं। मारपीट में दरोगा के शर्ट के बटन तक टूट गए। जो युवक इस वीडियो को बना रहा है वह कह रहा है कि पुलिस वाले अत्याचार कर रहे हैं। योगी सरकार है, फिर भी गरीबों की सुनवाई नहीं हो रही है।

मामले में दरोगा ज्ञानेश्वर विश्वकर्मा ने बताया कि वो अवैध निर्माण का विवाद सुलझाने गए थे। तभी उन पर हमला हो गया।
मामले में दरोगा ज्ञानेश्वर विश्वकर्मा ने बताया कि वो अवैध निर्माण का विवाद सुलझाने गए थे। तभी उन पर हमला हो गया।

मुझे पर हमला हुआ है: दरोगा
मामले में दरोगा ज्ञानेश्वर विश्वकर्मा ने बताया कि वो अवैध निर्माण का विवाद सुलझाने गए थे। तभी उन पर हमला हो गया। उन्होंने अधिकारियों से मामले की शिकायत कर दी है। वहीं, कैलिया थाना प्रभारी निरीक्षक अखिलेश कुमार द्विवेदी ने बताया कि मामले की जांच कोंच के सीओ कर रहे हैं। जो भी आरोपी होंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी।

वहीं, ग्रामीणों का आरोप है कि दरोगा ज्ञानेश्वर ने दूसरे पक्ष से पैसा ले लिया था। इस कारण वो अवैध रूप से हो रहे निर्माण को नहीं रोक रहे थे। इसकी शिकायत कई बार पंचायत में की जा चुकी है। पुलिस को भी मामले की जानकारी है। लेकिन उसके बाद भी पुलिस गलत का साथ दे रही थी। तभी गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस पर हमला किया।