पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जालौन में रोडवेज बस में लगी आग:शॉर्ट सर्किट से हुआ हादसा, डिपो से बस स्टैंड के लिए निकली थी, गनीमत रही सवारियां नहीं बैठी थीं

जालौनएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गनीमत रही कि स्टैंड तक रोडवेज बस नहीं पहुंच पाई। बस में चालक और परिचालक थे। आग लगते ही वह नीचे उतर गए।  - Money Bhaskar
गनीमत रही कि स्टैंड तक रोडवेज बस नहीं पहुंच पाई। बस में चालक और परिचालक थे। आग लगते ही वह नीचे उतर गए। 

जालौन में बस स्टैंड जा रही रोडवेज बस में शॉर्ट सर्किट होने की वजह से आग लग गई। देखते ही देखते बस धू-धूकर जलने लगी। गनीमत रही कि इसमें अभी सवारी बैठ नहीं पाईं थी। बस सवारी लेने के लिए ही जा रही थी, इससे पहले हादसा हो गया।

हादसा तकरीबन शाम 3 बजे के आसपास हुआ। डिपो से बस उरई बस स्टैंड के लिए जा रही थी। तभी शॉर्ट सर्किट होने के कारण बस में आग लग गई। आग को बढ़ता देख चालक ने बस को रोका और कूदकर अपनी जान बचाई। सूचना दमकलकर्मियो को दी, सूचना मिलते ही दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे, तब कहीं जाकर बस में लगी आग को बुझाया जा सका। जालौन बाईपास से जाने वाले लोगों को परेशानी का सामान करना पड़ा। आवागमन कुछ देर के लिए बाधित रहा।

घटना उरई कोतवाली क्षेत्र के जालौन-कोंच बाईपास की है। उरई डिपो से रोडवेज की बस यूपी 93 बीटी 2275 के चालक अरविंद सिंह और परिचालक दीपक खाली बस लेकर उरई बस स्टैंड नंबर लगाने के लिए लेकर आ रहे थे। बस जालौन-कोंच बाईपास स्थित मयूर गार्डन के पास पहुंची थी। तभी अचानक बस में शार्ट सर्किट के कारण आग लग गई। धीरे-धीरे इस आग ने विकराल रूप ले लिया।

उरई डिपो के एआरएम केएन चौधरी ने बताया कि तकनीकी खामी के कारण बस में आग लगी थी, बस डिपो से उरई बस स्टैंड जा रही थी जिसको 4 बजे कानपुर के लिए सवारियां लेकर जाना था, लेकिन उससे पहले ही यह हादसा हुआ। फिलहाल जांच कराई जा रही है कि आग कैसे लगी।

बीच सड़क बस धू-धूकर जलने लगी। आने जाने वाले लोग जहां-तहां खड़े हो गए। सभी के बीच यही चर्चा रही कि सवारियां होतीं तो बड़ा हादसा हो जाता।
बीच सड़क बस धू-धूकर जलने लगी। आने जाने वाले लोग जहां-तहां खड़े हो गए। सभी के बीच यही चर्चा रही कि सवारियां होतीं तो बड़ा हादसा हो जाता।

सवारी बैठी होती तो बड़ा हादसा
अगर शॉर्ट सर्किट सवारी बैठने के बाद होता तो बड़ा हादसा हो जाता। गनीमत रही कि स्टैंड तक रोडवेज बस नहीं पहुंच पाई। बस में चालक और परिचालक थे। आग लगते ही वह नीचे उतर गए।