पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59525.25-0.95 %
  • NIFTY17792.3-0.81 %
  • GOLD(MCX 10 GM)480700.26 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633193.1 %

जालौन में कृषि बिल रद्द किए जाने से किसान खुश:भाकियू प्रदेश अध्यक्ष बोले- सरकार देर से आई मगर दुरुस्त आई, अब किसानों के साथ मिलकर बनाए कानून

जालौन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालौन में कृषि बिल रद्द होने पर भाकियू नेता ने की सरकार की तारीफ। - Money Bhaskar
जालौन में कृषि बिल रद्द होने पर भाकियू नेता ने की सरकार की तारीफ।

जालौन में केंद्र सरकार द्वारा आज कैबिनेट में कृषि बिल रद्द किए जाने के बाद किसानों ने खुशी जताई है। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन ने कहा कि सरकार देर से आई, लेकिन दुरुस्त आई है। सरकार को अब किसानों को साथ मिलकर नया कृषि बिल बनाना चाहिए। जो किसानों के लिए हितकारी हो। साथ ही जब दोनों सदनों में इस कृषि बिल को समाप्त करने का प्रस्ताव रखा जाए। उसी दौरान एमएसपी पर भी सरकार कानून बनाए। जिससे किसानों को इसका लाभ हो सके।

किसानों को दिया जाए शहीद का दर्जा
जिले के उरई में भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन ने बताया कि 26 नवंबर को किसान आंदोलन को पूरा 1 साल हो जाएगा। इस दौरान किसानों ने कृषि बिल को लेकर अपना संघर्ष और आंदोलन जारी रखा। जिसमें 750 से अधिक किसानों ने शहादत दी है। सरकार द्वारा किसानों को शहीद का दर्जा दिया जाए। इसके लिए सरकार सिंधु बॉर्डर पर जमीन देकर उन किसानों के लिये स्मारक बनाए। इसके अलावा उनके परिजनों को नौकरी दी जाए।

अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी तक चलेगा आंदोलन
वहीं उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों के साथ मिलकर एक समिति बनानी चाहिए। जिसमें किसानों के ऊपर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाए, साथ ही बिजली बिल और एनजीटी में भी संशोधन किया जाए। सरकार ने आज कैबिनेट में कृषि बिल को रद्द कर दिया है। सरकार इस मामले में देर से जरूर लेकिन दुरुस्त आई है। अब संसद में जल्द से जल्द एमएसपी पर भी कानून बना दिया जाना चाहिए। वहीं उन्होंने लखीमपुर घटना के आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा उर्फ टेनी की मंत्रिमंडल से बर्खास्त की और उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। अजय मिश्रा 120 बी के अपराधी हैं और पुलिस एफआईआर में उनका नाम दर्ज है। इसके बावजूद भी अभी तक केंद्र व राज्य सरकार द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई है। अजय मिश्रा को सरकार बचाने का काम कर रही है। जब तक टेनी की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। सरकार को यदि आंदोलन समाप्त कराना है। तो उन्हें जल्द से जल्द बर्खास्त और गिरफ्तार किया जाए।