पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कालपी में पारा बढ़ने से मरने लगीं मछलियां:भीषण गर्मी में सूखने लगा आटा का पक्का तालाब, लाला हरदौल तालाब में पानी हुआ कम

कालपीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इन दिनों से हो तापमान में बेतहासा बढ़ोतरी के साथ तेज धूप और भीषण गर्मी के चलते ताल-तालाब सूखने लगे हैं। इससे मछलियों के लिए खतरा पैदा हो गया है। तहसील क्षेत्र के कस्बा आटा के लाला हरदौल का पक्का तालाब का पानी काफी नीचे चला गया है, जिससे मछलियां मरने लगीं है। इससे आसपास बदबू फैलने लगी है। पिछली साल ट्यूबवेल से तालाब को लबालब भर दिया गया था परन्तु इस बार न तो प्रधान इस ओर ध्यान दे रहा है और न ही अधिकारी।

कदौरा ब्लाक के ग्राम पंचायत आटा में लाला हरदौल पार्क स्थित पक्का तालाब बना हुआ है जो जल संरक्षण के लिए भी जाना जाता है पर वर्तमान में तालाब के अंदर भरे पानी व जीवों का कोई संरक्षण नहीं कर पा रहा है। भीषण गर्मी के चलते तालाबों में पानी बहुत कम रह गया है। इससे जलीय पौधे सुख गए, जलीय पौधों के सूखने से मछलियों को पर्याप्त आक्सीजन नहीं मिल पा रही है।

तालाब का पानी गर्म होने से मछलियों पर संकट

पानी गर्म होने पर मछलियों के मरने का सिलसिला शुरू होता जा रहा है। बदबू से आसपास के लोगों को परेशानी हो रही है। उन्होंने कहा कि पिछली बार ट्यूबवेल तीन दिन तक चला था तब जाकर पूरी गर्मी तालाब में पानी रहा। अगर जल्द ही तालाब में पानी नहीं छोड़ा गया तो जलीय जीवों की मौत नजदीक है।

तालाब में पानी भरने का नहीं किया गया इंतजाम

ग्रामीण अखिल तिवारी, संजू श्रीवास, आलोक, अरविंद शुक्ला, विनय, सुंदर सिंह, राजा आदि ने बताया कि तालाब में खंभे के बहुत नीचे तक पानी पहुंचा गया है, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि गर्मी का असर तालाबों पर पड़ना शरू हो गया है। गर्मियां शुरू होते ही इन तालाबों में पानी सूखने से मछलियां मरने लगती हैं। पानी भरने का कोई इंतजाम न होने से तालाब की तली तक पानी गर्म हो रहा है।

सीडीओ अभय कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जिले के सभी तालाबों को भरने के निर्देश दे दिए गए हैं। आटा में जल्द ही तालाब को भरवा दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...