पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

CM व NGT के नियम ताक पर:कालपी की बेतवा नदी में बहती जलधारा में पोकलैंड से हो रहा अवैध खनन, रसूखदारों के प्रभाव से चलता है सिस्टम

कालपीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सत्ता में आते ही सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अवैध खनन होने पर इसकी सीधे जवाबदेही जिले के जिम्मेदार अफसरों पर तय की थी। इसके बावजूद भी पथरेहटा में विभागीय मिलीभगत के चलते दिन रात पथरेहटा 5 व 6 खण्ड पर मौरंग का अवैध खनन किया जा रहा है। एनजीटी के सभी नियमों को ताक पर रखकर खनन हो रहा है। जिसमें रसूखदार लोग भी शामिल हैं तो अपनी पत्ती तय समय पर लेने पहुंच जाते हैं।

क्षेत्र में छह से अधिक मौरंग घाट
कालपी तहसील क्षेत्र में कदौरा ब्लाक में खनन विभाग की तरफ से लगभग छह से अधिक मौरंग घाट चल रहे हैं। बेहद हैरानी की बात तो यह है कि पट्टेधारक के आवांटित भूखंड क्षेत्रों से आगे बढ़कर खनन किया जा रहा है। जब नदी के किनारे मौरंग कम हुई तो माफिया नदी का पानी रोककर अवैध पुल बना नदी के बीच से ही मौरंग निकालने में जुट गए।

नियमों की उड़ा रहे धज्जियां
इससे मुख्यमंत्री के आदेश व एनजीटी के नियमों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही हैं। क्योंकि कदौरा थाने में कुछ दिन पहले नदी के बीच से मौरंग निकालने पर ही मुकदमा दर्ज कराया गया था। साथ ही एक मुकदमा क्षेत्रफल से अधिक खनन करने पर दर्ज किया गया है। एडीएम पूनम निगम ने बताया कि जहां से शिकायत मिलती है, छापेमारी की जाती है। अगर पथरेहटा घाट पर नदी के बीच से खनन हो रहा है, तो जांच की जाएगी।

बहती जलधारा में पोकलैंड से हो रहा अवैध खनन
कदौरा ब्लाक के पथरेहटा खंड संख्या 5 और 6 पर उत्तर प्रदेश खनिज संशोधन नियमावली 2017 व एनजीटी के नियम भी शायद कोई मायने नहीं रखते हैं। बेतवा की कोख में पोकलैंड जैसे भारी मशीनों को लगाकर खुलेआम मौरंग का अवैध खनन कराया जा रहा है। कुछ जगह कार्रवाई करने के बाद विभाग भी इतिश्री कर लेते हैं, जिससे माफिया के हौंसले बढ़ जाते हैं।

मौरंग घाट पर अगर कोई अपरिचित व्यक्ति जाए तो वहां पर अत्याधुनिक असलहों से लैस खनन माफिया के गुर्गे शोले फिल्म के गब्बर का किरदार निभाकर मौरंग घाटों पर 24 घंटे कुछ इस कदर कड़ा पहरा दे रहे हैं कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। उनकी लंबी मूंछें व बगल में टंगे असलहे को देखकर कोई भी वहां जाने की हिम्मत नहीं करता है। जब भी प्रशासन छापेमारी करता है तो यह गब्बर घाटों से गायब हो जाते हैं।

रसूखदारों के प्रभाव से चलता है सिस्टम
​​​​​​​
खनन माफिया ने अपनी ऊंची पहुंच व रसूख के चलते पूरे सिस्टम को हाईजैक कर रखा है। ये माफिया पिछली सपा सरकार में भी कुछ इसी तरह मौरंग का अवैध खनन करवाते रहे हैं और अब भाजपा सरकार में भी इनकी तूती बोल रही है। इसी कारण आला अफसर भी यहां छापेमारी करने में सोचते हैं क्योंकि वह रसूखदार लोगों के सिस्टम से घाट संचालित किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...