पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कालपी में अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेस का धरना:योजना को वापस लेने की मांग, युवाओं को धोखा देने का लगाया आरोप

कालपी (जालौन)2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तहसील परिसर में धरना-प्रदर्शन कर विरोध दर्ज कराया। धरने में पूर्व ब्लॉक प्रमुख सुरेंद्र सिंह सरसेला सम्मिलित हुए। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के बाद युवाओं व सैनिकों के खिलाफ कार्य कर रही है, सरकार को चाहिए कि नए रोजगार दें, परन्तु वह अल्प समय के लिए रोजगार का लॉलीपॉप देकर युवाओं को अपंग बनाने का कार्य कर रही है। उन्होंने इस योजना को तत्काल खत्म करने की मांग की।

वहीं इस मौके पर मनोज जाटव नगर अध्यक्ष कालपी, पूर्व विधायक प्रतिनिधि और पूर्व ब्लॉक प्रमुख कांग्रेस सुरेंद्र सिंह सरसेला, धर्मेन्द्र सलोनिया, जिला महासचिव, राम कुमार ओमरे पूर्व जिला उपाध्यक्ष, अशोक द्विवेदी, जितेंद्र मिश्रा, मोहन लाल श्रीवास, सुमित सम्राट, देवेंद्र बनाफर, अखिलेश अहिरवार, राम कुमार, अपूर्व श्रीवास्तव, वीर सिंह, जावेद, नौशाद, राजू श्रीवास्तव आदि कांग्रेसी मौजूद रहे।

योजना को वापस लेने की मांग
कांग्रेस पार्टी केंद्र सरकार से इस योजना को वापस लेने की मांग कर रही है। इससे पहले नई दिल्ली में भी सोनिया गांधी समेत अन्य नेताओं ने इस योजना के विरोध में जंतर-मंतर पर धरना दिया था। देश भर में इसे लेकर हिंसा भी हुई थी। हालांकि कालपी नगर में शांतिपूर्ण तरीके से धरना प्रदर्शन किया गया, किसी तरह की हिंसा नहीं हुई, बावजूद इसके सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस बल तैनात रहा।

अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया सत्याग्रह।
अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया सत्याग्रह।

विपक्ष क्यों कर रहा विरोध
यहां बता दें कि केंद्र सरकार ने इस योजना को जारी रखा है। चूंकि दो वर्ष तक कोरोना की वजह से सेना में भर्ती नहीं हुई थी, इसलिए विरोध प्रदर्शन के बाद उम्र सीमा को बढ़ाकर 17 से 23 वर्ष भी कर दिया। इसके बावजूद कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल इस योजना का विरोध कर रहे हैं।

इन दलों का कहना है कि इससे युवाओं का भविष्य बर्बाद होगा। चार साल के प्रशिक्षण के बाद 25 प्रतिशत युवाओं को ही स्थायी नौकरी मिलेगी। ऐसे में 75 प्रतिशत युवा तो बेरोजगार हो जाएंगे। वैसे आश्वासन दिया गया है कि अग्निवीरों को राज्य पुलिस समेत अन्य नौकरियों में प्राथमिकता दी जाएगी। इसके अलावा भारी-भरकम राशि भी हाथ में होगी, जिससे ये स्वरोजगार भी कर सकते हैं।