पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अवैध दुकानदारों पर कार्रवाई:बिना लाइसेंस की दुकानों को एसडीएम ने किया सील, किसान बोले- कम पैसे मिलने से प्राइवेट खरीदारों को बेच रहे गेहूं

सिकन्दराराऊएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिकन्दराराऊ के उपजिलाधिकारी अंकुर वर्मा ने अवैध रूप से गेहूं की खरीद फरोख्त करने वाले फड़ियो के विरुद्ध छापेमारी अभियान चलाया। इस दौरान एसडीएम ने एक दुकान को सील कर दिया। जिससे अवैध रूप से गेहूं की खरीद फरोख्त नहीं की जा सके। एसडीएम की इस कार्रवाई से गलत ढ़ंग से खरीदारी करने वालों में हड़कंप मचा है।

अवैध रूप से काटा लगाकर गेहूं की खरीद फरोख्त
सिकन्दराराऊ कस्बा में अवैध रूप से कांटा लगा कर गेहूं की खरीद फरोख्त की जा रही थी। जिसकी सूचना मिलने पर उपजिलाधिकारी अंकुर वर्मा ने जीटी रोड की दुकानों पर छापेमारी की। इस दौरान कार्रवाई करते हुए उन्होंने पुरानी अनाजमंडी रोड पर अवैध रूप से संचालित हो रही एक दुकान को सील कर दिया। अवैध रूप से काटा लगाकर गेहूं की खरीद फरोख्त कर रहे दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई देख दुकानदारों में अफरातफरी मच गयी।

निरीक्षण करते उपजिलाधिकारी अंकुर वर्मा
निरीक्षण करते उपजिलाधिकारी अंकुर वर्मा

कम रेट पर हो रही सरकारी खरीद
किसानों का कहना है कि सरकार ने मंडी समिति में गेहूं की खरीद फरोख्त सरकारी रेट 2015 रुपए कुंतल के हिसाब से हो रही है। प्राइवेट दुकानों पर 2200 से 2300 रुपए कुंतल खरीद फरोख्त हो रही है। इसलिए किसान सरकारी रेट पर गेहूं की बिक्री करने को तैयार नही है।

दुकानदारों का कहना है कि उप जिलाधिकारी अंकुर वर्मा जबसे सिकन्दराराऊ आए हैं। तब से अवैध रूप से चल रही दुकानों पर लगातार कार्रवाई कर रहे है।

अवैध रूप से चल रही दुकानों के खिलाफ जारी रहेगी कार्रवाई
उप जिलाधिकारी सिकन्दराराऊ अंकुर वर्मा ने कहा कि कस्बे में और क्षेत्र में भ्रमण कर अवैध रूप से चल रही दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है और आगे भी ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जाएगी। ऐसे जिन लोगों के पास लाइसेंस है, वह मंडी समिति परिसर में गेहूं की खरीद कर सकते हैं। मंडी समिति के अलावा अन्य स्थानों पर अवैध रूप से गेहूं की खरीद करने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...