पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चेयरमैन बनाने में विधायक ने मारी बाजी:नपा उपप्रधान पद ; सियासी हलचल शुरू, महिला समेत कई पार्षद दौड़ में

शाहाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शाहाबाद नगर पालिका चेयरमैन व पार्षद चुनाव के बाद अब उपप्रधान बनने को कवायद शुरू हो गई है। हालांकि चयन शपथ ग्रहण के आसपास ही होगा लेकिन पार्षद अब अपनी सेटिंग बैठाने में लगे हैं। उपप्रधान पद के लिए सभी पार्षद दौड़ में है। चुनावी नतीजे आए सिर्फ तीन दिन ही हुए हैं और उपप्रधान पद को लेकर सरगर्मी शुरू हो गई है। एक ओर नगरपालिका अध्यक्ष गुलशन क्वातरा और पार्षदों के लिए शपथ ग्रहण समारोह की प्रतीक्षा हो रही है। दूसरी ओर उपप्रधान पद हेतु सियासी हलचल के बीच बैठकों का क्रम शुरू हो गया है। वर्तमान परिदृश्य में शाहाबाद नगर पालिका में नवनिर्वाचित 19 पार्षदों में अधिकतर ने उपप्रधान पद के लिए दावा ठोंका है। पार्षदों का कौन-सा खेमा उपप्रधान की कुर्सी पर काबिज होगा, यह अभी समय के गर्भ में है।

महिला पार्षदों का भी दावा| कुल 19 पार्षदों में से इस बार 8 महिला पार्षद चुनी गई हैं जिसमें वार्ड नंबर 4 से निर्विरोध चुनी गई पार्षद निशा ठकुराल का कहना है कि महिलाओं को भी नगरपालिका में बराबर का सम्मान मिलना चाहिए। उनका कहना है कि अगर पुरुष पार्षद या महिला पार्षदों के पति ने ही विकास कार्य या समस्याओं का हल करना है तो फिर महिला पार्षद चुने जाने या महिला पार्षद आरक्षित सीट बनाने का कोई फायदा नहीं है। उन्होंने कहा कि वे शहर में एकमात्र ऐसी महिला पार्षद हैं, जो निर्विरोध चुनी गई हैं, इसलिए उन्हें उपप्रधान पद पर सेवा का मौका मिलना चाहिए।

रोटरी क्लब के पूर्व प्रधान आरडी गुप्ता एडवोकेट ने कहा कि शाहाबाद में विकास हेतु शिक्षित उपप्रधान की जरूरत है और वार्ड-11 से उनकी पुत्रवधु इस पद हेतु सर्वश्रेष्ठ है। वार्ड-16 से विजेता भाजपा समर्थित रीतू रानी का भी यही कथन है कि वे उच्च शिक्षित पार्षद हैं और उन्हें उपप्रधान पद प्राप्त होता है तो वे जी-जान से विकास कार्य करवाएंगी।

}एससी समाज को मिले मौका| वार्ड-2 से चयनित पार्षद कुसुम रानी का कहना है कि वे एससी समाज से महिला पार्षद है। यदि वास्तव में महिलाओं और दलित समाज का उत्थान करना है तो नगरपालिका के उपप्रधान पद पर उनका दावा बनता है। वार्ड-9 से नीरज मट्टू और वार्ड-14 से अमृत पाल ने भी एससी होने पर उपप्रधान हेतु खुद को दावेदार बताया।

}विधायक करेंगे फैसला| वहीं वार्ड-1 से नवनिर्वाचित पार्षद राजेश कुमार उप्पल, वार्ड-6 से पार्षद विजय कुमार कलसी, वार्ड-13 से बनी महिला पार्षद नवनीत कौर और वार्ड-15 से पार्षद प्रवीण कुमार ने कहा कि शाहाबाद के विधायक रामकरण, जिस किसी को भी नगरपालिका उपप्रधान का पद देंगे, उन्हें वह निर्णय स्वीकार्य होगा।

}सिख समाज से बने उपप्रधान| हरियाणा सिख परिवार के प्रदेशाध्यक्ष और शिरोमणि अकाली दल हरियाणा के प्रदेश प्रवक्ता कवलजीत सिंह अजराना ने वार्ड-19 से विजयी रहे सिख समाज के इकलौते पार्षद जगतार सिंह विर्क को उपप्रधान बनाने की मांग रखी है। उन्होंने कहा कि शाहाबाद में सिख वोट काफी ज्यादा है। इसके बावजूद पिछले कई वर्षों से शाहाबाद में नगरपालिका प्रधान पद और उपप्रधान पद पर सिख समुदाय के किसी भी पार्षद को मौका नहीं मिला इसलिए नगरपालिका उपप्रधान पद जगतार सिंह विर्क को ही मिलना चाहिए।

दावा करना सभी का अधिकार : विधायक उपप्रधान को लेकर विधायक रामकरण का कहना है कि दावा ठाेंकना सभी का अधिकार है। मगर उपप्रधान उसी को बनाया जाएगा, जो शाहाबाद के विकास हेतु हमेशा आगे रहेगा। उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में उन्होंने कोई चर्चा नहीं की है। वे सभी पार्षदों से चर्चा करके ही इस बारे में कोई फैसला लेंगे। }कैसे होगा उपप्रधान का चुनाव| सर्वप्रथम पार्षदों का शपथ ग्रहण समारोह होगा। उसके बाद सभी चुने हुए पार्षदों को एकत्रित करके उपप्रधान का चुनाव किया जाता है। पार्षदों के साथ-साथ विधायक और सांसद को भी उपप्रधान हेतु एक वोट देने का अधिकार होता है। इस तरह अब शाहाबाद नगरपालिका उपप्रधान हेतु कुल 21 वोट डलेंगे, जिसमें से 11 अथवा 11 से अधिक वोट लेने वाला पार्षद उपप्रधान चुना जाएगा।

खबरें और भी हैं...