पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर हाइवे पर मौत का सिलसिला बदस्तूर जारी:मौत के तांडव पर कब लगेगी रोक, 6 महीने में 200 लोगों ने गंवाई अपनी जान

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हमीरपुर से होकर गुजरने वाले नेशनल हाइवे 34 पर लगातार हादसों में इजाफा हो रहा है। लोगों की मौतों की तादात भी तेजी से बढ़ी है। बीते 6 महीने के दौरान इस हाइवे पर 200 लोगों की मौत हो चुकी। जबकि इससे कहीं ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं। जिसमें से कई तो अपना हांथ पैर गंवा चुके हैं। हादसों में रोक लगे इसके लिए हाइवे पर डिवाइडर बनने की आवश्यकता है। जिसके लिए बीते कई सालों से मांग चली आ रही है। लेकिन सुनने वाला कोई नहीं है।

हमीरपुर से गुजरने वाला नेशनल हाइवे 34 जो कानपुर से सागर मध्यप्रदेश को जोड़ता है। उसपर रोज 8 हजार ट्रक गिट्टी और मौरम लेकर गुजरते हैं। इसके साथ ही निजी साधनों और बसों की तादात भी अच्छी खासी है। जिसकी वजह से इस टू-लेन हाइवे पर ट्रैफिक छमता से ज्यादा है। नेशनल हाइवे 34 पर डिवाइडर नहीं है। इसलिए ट्रैफिक कंट्रोल के बाहर है। कोई राईट साइड से भागता है तो कोई लेफ्ट साइड से और इसी दौरान हादसे होते हैं।

इस मार्ग से गुजरना बहुत कठिन है।
इस मार्ग से गुजरना बहुत कठिन है।

आमने-सामने हुए ज्यादा हादसे
नेशनल हाइवे 34 पर अभी तक जितने हादसे हुए हैं, उसमें से ज़्यादातर हादसे आमने सामने हुए हैं। जिसमें बीते 6 महीने के दौरान इस हाइवे पर 200 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि इससे कहीं ज्यादा घायलों की तादात है। जिसमें से तमाम हांथ या पैर गंवा चुके हैं। बीते दिन भी इस हाइवे पर पिकअप और ऑटो रिक्शे के बीच हादसा हुआ था जिसमें 8 लोगों की मौत हुई थी जबकि, इतने ही घयाल हुए थे जिनका इलाज चल रहा है। इस हाइवे पर अगर डिवाइडर बन जाए तो हादसों में लगाम लग जायेगी और लोग सुरक्षित सफर कर सकेंगे।

हाइवे पर आए दिन होते रहते हैं हादसे।
हाइवे पर आए दिन होते रहते हैं हादसे।

डिवाइडर बनाने के लिए मांग
हाइवे पर डिवाइडर बने इसके लिए बीते कई सालों से मांग होती चली आ रही है। लोगों ने ज्ञापन के माध्यम से सरकार तक डिवाइडर बनवाने की मांग पहुंचाई है। वही जिले के अधिवक्ताओं ने कलेक्ट्रेट में कई बार धरना प्रदर्शन भी किया है। लेकिन सुनवाई आज तक नहीं हो सकी है। और हमेशा यह जवाब मिला की यह हाइवे टू-लेन है। डिवाइडर बनवाने के लिए फोर लेन रोड की आवश्यकता है।

पहले भी कई बार इस तरह के हादसे हो चुके हैं।
पहले भी कई बार इस तरह के हादसे हो चुके हैं।

विधायक ने कहा हम और किसी को नहीं खोना चाहते
नेशनल हाइवे पर डिवाइडर कब तक बनेगा इस बाबत हमीरपुर विधायक मनोज प्रजापति से बात की गई तो इन्होंने माना की हम जिले के बहुत सारे लोगों को हादसे में खो चुके हैं। विधायक के कहा की डिवाइडर बनवाने में अड़चन इस बात की है की जिस कम्पनी ने हाइवे बनवाया है। उससे 2025 तक का एग्रीमेंट है। जिसे निरस्त नहीं किया जा सकता। फिर भी इस बात को वह मुख्यमंत्री के संयान में ला चुके हैं। बीते दिन हुए भीषण हादसे की चर्चा करते हुए विधायक ने कहा की वह इस मामले में वह पीडब्ल्यूडी मंत्री से बात करेंगे।हादसों के हालात से अवगत करायेंगे।

हादसे पर लोग लगाने के लिए किया जा रहा प्रयास
हमीरपुर विधायक से जब यह कहा गया की क्या टू-लेन में डिवाइडर नहीं बन सकता तो इन्होंने इस सुझाव को अच्छा माना। कहा की वह इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी हमीरपुर से बात करेंगे। टू-लेन में ही डिवाइडर बनवाने की कोशिश करेंगे। ताकि कम से कम आमने सामने होने वाले हादसों में रोक लग सके।

खबरें और भी हैं...