पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर में डग्गामार वाहनों का रियलिटी चेक:जान जोखिम में डालकर सफर कर रही सवारी, चार दिन पहले 10 लोगों की गई थी जान

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हमीरपुर में बीते चार दिन पहले एक हादसा हुआ था। जिसमें थ्री सीटर ऑटो रिक्शे पर सवार 10 यात्रियों की मौत हुई थी। जबकि तीन यात्रियों का अभी भी इलाज चल रहा है। इस हादसे के बाद उम्मीद की गई थी कि पुलिस और प्रशासन डग्गामारी करने वाले वाहनों पर रोक लाएगा। नियमानुसार वाहनों को चलाने की इजाज़त देगा। लेकिन फिलहाल ऐसा होता दिखाई नहीं दे रहा है। यहां अभी भी डग्गामार सवारियों को छमता से ज़्यादा बैठा कर फर्राटा भर रहे हैं। वाहनों के बाहर भी सवारियां लटकाकर चल रहे हैं।

हमीरपुर जिले के मुस्करा थाना क्षेत्र सहित मौदहा कोतवाली क्षेत्र में सुबह से ही थ्री सीटर ऑटो रिक्शे सहित तमाम चार पहिया डग्गामार वाहन यात्रियों को वाहन की छमता से अधिक लेकर चलते दिखाई दिए हैं। हद तो यह है की अन्दर जगह ना होने की स्थित में डग्गामार सवारियों को बाहर लटकाकर भी फर्राटा भरते दिखाई दिए।

जान जोखिम में डालकर चल रहे सवारी।
जान जोखिम में डालकर चल रहे सवारी।

इनको नहीं है किसी नियम की परवाह
ट्राफिक नियमों से कोई लेना देना था और ना ही इनके अन्दर पुलिस का ही खौफ दिखाई दिया। जबकि हादसे के दूसरे दिन ही पुलिस महकमे के आला अधिकारीयों ने मौदहा कोतवाली सहित अन्य थानों में ऑटो रिक्शा चालकों के साथ मीटिंग की थी। छमता से ज़्यादा सवारी ना बैठाने के निर्देश दिए थे।

आए दिन इस मार्ग पर हादसा होता है इसके बाद भी इस तरह की लापरवाही की जा रही है।
आए दिन इस मार्ग पर हादसा होता है इसके बाद भी इस तरह की लापरवाही की जा रही है।

ऑटो रिक्शा हादसे का शिकार हुआ था
छमता से अधिक सारियां लेकर डग्गामार फर्राटा भर रहे हैं। डग्गामार वाहनों पर क्या कार्रवाई की जा रही है। इस बाबत यातायात प्रभारी संजय मिश्रा ने बताया की बीते तीन दिन के अन्दर 37 ऑटो रिक्शों का वह चालान कर चुके हैं। जबकि यह कार्रवाई लगातार चलती रहेगी, और जो भी छमता से अधिक सवारी लेकर चलता दिखाई देगा। उनकी गाड़ियों को सीज़ कराया जाएगा। यातायात प्रभारी ने बताया की ट्राफिक पुलिस का स्टाफ मुस्करा थाना क्षेत्र में नहीं है, जबकि उनके दो सिपाही मौदहा में तैनात हैं, जबकि उनके पास 18 लोगों का स्टाफ है।

खबरें और भी हैं...