पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर में मानव श्रृंखला बनाकर डिवाइडर बनाने की मांग की:एनएच-34 पर सड़क हादसे में हज़ारों लोगों की जा चुकी है जान

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हमीरपुर में नेशनल हाइवे 34 को फोरलेन करते हुए डिवाइडर बनाया जाए इसकी आवाज़ लगातार बुलंद होती जा रही है, बीते दिन युवाओं ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा था, तो वहीँ रविवार को हाइवे के किनारे मानव श्रंखला बना कर मांग की है। लोगों का कहना है कि जब से हाइवे बना ज़िले के हजारों लोगों को हम खो चुके हैं।सरकार इसको संज्ञान ले और एनएच 34 पर डिवाइडर बनवाये।

हमीरपुर से होकर गुजरने वाला नेशनल हाइवे जो कानपुर से सागर मध्यप्रदेश को जोड़ता है। यह जब से बना इसपर डिवाइडर नहीं है, और ट्राफिक बहुत ज़्यादा है जिसकी वजह से शायद ही कोई ऐसा दिन जाता हो जब इसपर हादसा ना हो, और किसी ना किसी की जान ना चली जाए। हाइवे पर डिवाइडर बने इसकी मांग बीते कई सालों से होती चली आई है। लेकिन अब जब चार दिन पहले हुए भीषण हादसे में एक साथ 10 लोगों की जान चली गई, तो लोग अन्दर से दहल गए हैं। और अब डिवाइडर बनवाये बिना शांत होने के मूड में नहीं हैं। मानव श्रंखला बना कर डिवाइडर बनवाने की मांग करने वाले सुमेरपुर कसबे के लोगों का कहना है, यह आन्दोलन अब चलता रहेगा जब तक हाइवे फोरलेन नहीं होगा और इसपर डिवाइडर नहीं बनेगा।

मानव श्रृंखला बनाने के दौरान लोग हाथों में स्लोगन पोस्टर भी लिए थे।
मानव श्रृंखला बनाने के दौरान लोग हाथों में स्लोगन पोस्टर भी लिए थे।

पोस्टर के जरिये एनएच-34 को बताया 'खूनी हाइवे'

सुमेरपुर कस्बे में एनएच के किनारे मानव श्रंखला बना कर डिवाइडर की मांग करने वाले अपने हांथों स्लोगन लिखे पोस्टर लिए हुए थे, जिसमें से किसी में खूनी हाइवे लिखा था, तो किसी में हत्यारी सड़क, तो किसी में मासूम बच्चे की फोटो बनी थी जिसमें लिखा था पापा कहाँ हो। शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करते हुए डिवाइडर की मांग करने वाले रवींद्र भरतवंशी, शिवकांत तिवारी, राजेश सहारा का कहना है ज़िले के बहुत सारे लोगों को खो चुके हैं अब किसी को खोना नहीं है, हाइवे को फोरलेन करवाते हुए डिवाइडर बनवा कर ही रहेंगे।

खबरें और भी हैं...