पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर की ऐतिहासिक धरोहरों को किया जाएगा संरक्षित:पौराणिक और सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण संवर्धन के लिए कवायद, पर्यटन को दिया जाएगा बढ़ावा

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हमीरपुर के अब्दुल कलाम सभागार में बैठक संपन्न हुई। जिसमें ऐतिहासिक धरोहरों, पौराणिक व सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण संवर्धन पर जोर दिया गया। इसके साथ ही जनपद के विकास को बढ़ावा देने हेतु प्रभावी कार्रवाई किये जाने की बात कही गई। जिलाधिकारी ने शिक्षा, विज्ञान, खेलकूद, पर्यावरण, पर्यटन, नवाचार को बढ़ावा दिए जाने के निर्देश दिये।

जिलाधिकारी डॉ. चंद्र भूषण त्रिपाठी ने कहा कि समिति के माध्यम से हमीरपुर की सांस्कृतिक विरासतों का प्रभावी ढंग से प्रचार-प्रसार किया जाए। इसके माध्यम से शिक्षा, विज्ञान, खेलकूद, पर्यावरण, पर्यटन, नवाचार को बढ़ावा दिया जाए और इसके लिए प्रभावी ढंग से प्रयास किया जाए। समिति में अच्छे लोगों से विधिवत फार्म भराकर तथा उन पर भली-भांति विचार करके प्रबुद्ध और गणमान्य व्यक्तियों को जोड़ा जाए। समिति का उद्देश्य जनपद की ऐतिहासिक धरोहरों , पौराणिक व सांस्कृतिक स्थलों का संरक्षण, संवर्धन व प्रोत्साहन करना तथा जनपद के विकास को बढ़ावा होना चाहिए।

हमीरपुर में ऐतिहासिक धरोहरों, पौराणिक व सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण संवर्धन पर दिया जोर।
हमीरपुर में ऐतिहासिक धरोहरों, पौराणिक व सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण संवर्धन पर दिया जोर।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी पर दें ध्यान
हमीरपुर संरक्षण एवं विकास समिति के आय-व्यय पर भी बैठक में चर्चा की गयी तथा इसकी आय बढ़ाने पर जोर दिया गए। जिलाधिकारी ने कहा कि आय बढ़ाने हेतु सभी अधिकारियों द्वारा प्रभावी प्रयास किया जाए इसके लिए अधिक से अधिक लोगों को सदस्य बनने हेतु प्रोत्साहित किया जाए। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय के पास प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हेतु निशुल्क संचालित स्टडी सेंटर के स्टूडेंट्स एवं शिक्षकों को अभ्युदय कोचिंग सेंटर में मर्ज करने करने की बात भी कही। इसके साथ ही अभ्युदय योजना में अच्छे स्टूडेंट्स को जोड़ने पर भी ज़ोर दिया गया।

खबरें और भी हैं...