पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर में भीषण सर्दी का असर:कोल्ड डायरिया के बढ़े मरीज, डॉक्टर बोले- ब्लड प्रेशर और अस्थमा के मरीज भी बरतें एहतियात

हमीरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल में रोजाना बढ़ रही मरीजों की संख्या। - Money Bhaskar
जिला अस्पताल में रोजाना बढ़ रही मरीजों की संख्या।

हमीरपुर में कड़ाके की सर्दी से ब्लड प्रेशर और अस्थमा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ रहीं हैं। कोरोना संक्रमण के बीच लोग सर्दी की चपेट में भी आ रहे हैं। कोल्ड डायरिया ने हर उम्र के लोगों को परेशान कर रखा है। वहीं, बच्चे निमोनिया की चपेट में आ रहे हैं। इन दिनों पारा 4 से 5 डिग्री सेल्सियस के बीच पहुंच गया है। ऐसे में मौसम से बचाव करना बेहद जरूरी है.

ब्रेन हेमरेज का बढ़ा खतरा
जिला अस्पताल के फिजीशियन डॉ. आर एस प्रजापति ने बताया कि सर्दी में सभी आयुवर्ग के लोगों को सतर्कता की जरूरत है। इस मौसम में ब्लड प्रेशर और अस्थमा के मरीज अतिरिक्त सावधानी बरतें। ब्लड प्रेशर बढ़ने से ब्रेन हेमरेज का खतरा बढ़ जाता है। अस्थमा के अटैक भी इस मौसम में बढ़ जाते हैं। इसलिए अस्थमा के मरीजों को इस मौसम में खुद को सामान्य तापमान में रखना चाहिए। वहीं, अनावश्यक रूप से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

ओपीडी में आ रहे 100 से 150 मरीज
डॉ. प्रजापति ने बताया कि इस वक्त जिला अस्पताल की ओपीडी में प्रतिदिन 100 से 150 मरीज आ रहे हैं। इनमें ज्यादातर मौसम की वजह से बीमारी से ग्रसित हैं। इनमें सर्दी-जुकाम के साथ ही कोल्ड डायरिया के मरीजों की संख्या ज्यादा है। खानपान में भी सावधानी बरतें। ठंडी चीजों से परहेज करें और गुनगुना पानी पिएं।

निमोनिया और कोल्ड डायरिया का खतरा
नवजात शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. आशुतोष निरंजन का कहना है कि बच्चों का इस मौसम में ध्यान रखना जरूरी है, क्योंकि छोटे बच्चे किसी से कुछ कह नहीं पाते हैं। सर्दी के मौसम में उनको निमोनिया और कोल्ड डायरिया हो सकता है। इसलिए बच्चों को सिर में कैप, पैर में मोजे और हाथों में दस्ताने पहनाने की सलाह दी जाती है । छह माह तक के बच्चे को केवल मां का दूध ही पिलाएं | उन्होंने बताया कि बच्चों में भी निमोनिया के केस बढ़े हैं।

बच्चों में निमोनिया के लक्षण
बच्चों में तेज सांस लेना, घरघराहट आदि भी निमोनिया के संकेत हो सकते हैं। उल्टी होना, पेट या सीने के निचले हिस्से में दर्द होना, कंपकंपी, शरीर में दर्द, मांसपेशियों में दर्द भी निमोनिया के लक्षण हैं। पांच साल से कम उम्र के ज्यादातर बच्चों में निमोनिया होने पर उन्हें सांस लेने में तथा दूध पीने में भी दिक्कत होती है। वह सुस्त हो जाते हैं।

खबरें और भी हैं...