पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57491.51-2.62 %
  • NIFTY17149.1-2.66 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486500.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64467-0.29 %

गोरखनाथ मंदिर में बिपिन रावत ने की थी पूजा:योगी ने खुद पहनाई माला; एक साल पहले महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद में थे मुख्य अतिथि

गोरखपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिपिन रावत यहां पिछले साल 3 दिसंबर को गोरखपुर आए थे।

तमिलनाडु में कन्नूर के जंगलों में बुधवार को सेना का MI-17 हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। इसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत व उनकी पत्नी मधुलिका की मौत हो गई। बिपिन रावत की गोरखपुर से काफी यादें जुड़ी हैं। वह पिछले साल 3 दिसंबर 2020 को महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के संस्थापक समारोह में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए थे। आयोजन में सीएम योगी आदित्यनाथ मौजूद रहे थे।

खास बात यह है कि आज हादसे के दिन भी गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद का संस्थापक समारोह चल रहा है। इस बार मुख्य अतिथि केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर हैं।

गोरखनाथ मंदिर में सीएम ने पहनाई थी फूल माला, पुरोहित ने किया था स्वागत

गोरखपुर आने पर उनका यहां नाथ सम्प्रदाय के सबसे बड़े मठ गोरखनाथ मंदिर में सीएम योगी आदित्यनाथ ने माला पहनाकर स्वागत किया था।
गोरखपुर आने पर उनका यहां नाथ सम्प्रदाय के सबसे बड़े मठ गोरखनाथ मंदिर में सीएम योगी आदित्यनाथ ने माला पहनाकर स्वागत किया था।

उनका गोरखपुर मंदिर में भव्य स्वागत हुआ था। ब्रह्मलीन गोरक्ष पीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ महाराज के जन्म शताब्दी वर्ष पर सभा मंच पर वह पहुंचे थे। उन्होंने आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया था। नाथ सम्प्रदाय के सबसे बड़े मठ गोरखनाथ मंदिर में सीएम योगी ने उन्हें माला पहनाई थी। पुरोहित ने उनका स्वागत किया था।

गुरु गोरक्षनाथ का भी आशीर्वाद लिया था जनरल ने

बिपिन रावत ने पुरोहितों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सीएम योगी आदित्यनाथ की अगुआई में महायोगी गुरु गोरक्षनाथ का दर्शन कर पूजा पाठ किया था।
बिपिन रावत ने पुरोहितों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सीएम योगी आदित्यनाथ की अगुआई में महायोगी गुरु गोरक्षनाथ का दर्शन कर पूजा पाठ किया था।

इसके बाद सीएम योगी ने उन्हें पूरे मंदिर का भ्रमण कराया था। नाथ साम्प्रदाय के विभिन्न पीठाधीश्वरों के बारे में उन्हें जानकारी दी थी।

सीएम योगी ने दिया था श्रीराम जन्मभूमि का स्मृति चिह्न

भोज के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें श्रीराम जन्मभूमि का स्मृति चिह्न और अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया था।
भोज के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें श्रीराम जन्मभूमि का स्मृति चिह्न और अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया था।

बिपिन रावत ने गोरक्षनाथ मंदिर में स्थित सभी महंतों के समाधि स्थल पर माथा टेका था। मंदिर में ही सीडीएस विपिन रावत के सम्मान में रात्रि भोज का आयोजन किया गया। इसमें मंदिर से जुड़े हुए पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे। वहीं भोज के कार्यक्रम में सीएम योगी ने उन्हें श्रीराम जन्मभूमि का स्मृति चिह्न और अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया था।

खबरें और भी हैं...