पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पत्थरबाजों से निपटेगी UP पुलिस की स्पेशल टीम:हर जिले में 20 से 40 पुलिसकर्मी इस दल में, बॉडी प्रोटेक्टर से होंगे लैस

गोरखपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

योगी सरकार ने पत्थरबाजों से निपटने के लिए यूपी के हर जिले में 20 से 40 पुलिसकर्मियों की एक स्पेशल टीम बनाई है। इस टीम को 'एंटी रॉयट फुल बॉडी प्रोटेक्टर' से लैस किया गया है। पुलिस टीम इसको पहनने के बाद आसानी से पत्थरबाजों को दौड़ाकर पकड़ लेगा।

यह प्रोटेक्टर छाती के लिए प्रोटेक्टर्स, कंधे, ऊपरी बांह, कोहनी, पेट और जांघ के बीच के हिस्से और पैर के निचले हिस्से के गार्ड से लैस होगा। इस पूरी वर्दी का वजन 6 किग्रा है। यूपी में यह पहली बार पुलिसकर्मियों को मिला है।

शुक्रवार को गोरखपुर में स्पेशल टीम ने फुल प्रोटेक्टर्स पहन कर पैदल मार्च किया।
शुक्रवार को गोरखपुर में स्पेशल टीम ने फुल प्रोटेक्टर्स पहन कर पैदल मार्च किया।

फुल बॉडी प्रोटेक्टर का जम्मू-कश्मीर में पहली बार हुआ प्रयोग

पहली बार इसका प्रयोग जम्मू कश्मीर में पत्थरबाजों से निपटने के लिए किया गया था। वहां की पैरामिलिट्री और अन्य फोर्सेज यह पहनती थी। यह बुलेट जैकेट से अलग है। बुलेट प्रूफ केवल गोली और छर्रों को रोकती है। लेकिन यह कवच खासकर पत्थरों के लिए है। यह 360 डिग्री तक पुलिसकर्मी के शरीर को कवर करेगा।

पुलिसकर्मियों ने साझा किया अनुभव

नियमों की वजह से कैमरे के सामने नहीं आए, लेकिन पुलिसकर्मी इसे पाकर खुश दिखे। नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिसकर्मी ने कहा, 'अब हमें ड्यूटी के दौरान डर नहीं लग रहा है। पहले पत्थर चलता था तो हम लोग खुद को बचाते थे लेकिन अब उन्हें तत्काल पकड़ सकेंगे। वहीं अमित ने बताया कि थोड़ा वजनी है लेकिन चारों तरफ से हो रहे पत्थरबाजी के बीच में यह हमें पूरी तरह से सुरक्षित करेगा। हमें अब कहीं छिपने की आवश्यकता नहीं है'।

गोरखपुर में जुमे की नमाज से पहले चौराहों पर स्पेशल टीम के पुलिसकर्मी तैनात किए गए।
गोरखपुर में जुमे की नमाज से पहले चौराहों पर स्पेशल टीम के पुलिसकर्मी तैनात किए गए।

गोरखपुर जोन के एडीजी अखिल कुमार ने बताया कि पुलिस हेडक्वार्टर की तरफ से ये इंस्ट्रूमेंट दिया गया है।

गोरखपुर जोन के 470 पुलिसकर्मी हुए लैस
गोरखपुर जोन के 11 जिलों के 470 पुलिसकर्मी इससे लैस हुए हैं। इसमें देवरिया के 38, कुशीनगर 38, गोरखपुर 50,महराजगंज में 38,बस्ती में 68, संतकबीरनगर में 38, सिद्धार्थनगर में 38,गोंडा में 38, बहराइच में 48,बलरामपुर 38 और श्रावस्ती में 38 पुलिसकर्मियों की स्पेशल टीम बनाई गई है। इन 470 पुलिसकर्मियों में 284 पुलिस लाइंस के, 126 थानों के, 48 अधिकारी और 12 क्यूआरटी (क्विक रिस्पांस टीम) को दिया गया है।

गोरखपुर में स्पेशल टीम के 50 पुलिसकर्मियों को दिया गया है फुल बॉडी प्रोटेक्टर।
गोरखपुर में स्पेशल टीम के 50 पुलिसकर्मियों को दिया गया है फुल बॉडी प्रोटेक्टर।
एडीजी अखिल कुमार ने बताया कि इससे पथराव के बीच भी पुलिसकर्मी काम कर सकेंगे।
एडीजी अखिल कुमार ने बताया कि इससे पथराव के बीच भी पुलिसकर्मी काम कर सकेंगे।

फुल बॉडी प्रोटेक्टर के बारे में जानें कुछ खास बातें

  • दंगा की स्थिति और अन्य पुलिसिंग कार्यों में सामने आई ईंट/बेंत/चाकू/एसिड हमलों और फेंके हुए सामान के खिलाफ शारीरिक सुरक्षा करती है।
  • इसमें ट्रॉमा पैड के साथ आगे और पीछे के लिए सुरक्षात्मक चादरें हैं।
  • फ्री आवाजाही, लंबी शेल्फ लाइफ, उत्कृष्ट सुरक्षा क्षमता के साथ हल्के वजन के लिए डिजाइन किया गया है।
  • इसकी बाहरी सामग्री में उच्च घनत्व वाला पॉलीथीन कपड़ा, नायलॉन और ABS प्लास्टिक के पुर्जे लगे हैं।
  • यह सीने को 37 सेमी तक कवर करता है।
खबरें और भी हैं...