पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59683.81-0.69 %
  • NIFTY17825.6-0.63 %
  • GOLD(MCX 10 GM)480700.26 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633193.1 %

गोरखपुर...फर्जी वसूली में फंसे बिजली विभाग के अफसर:विजिलेंस चेकिंग के नाम पर कर महिला से वसूली; इंस्पेक्टर, SDO और JE पर केस दर्ज

गोरखपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अब इस मामले में पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर विजलेंस इंस्पेक्टर, SDO, दो JE सहित पूरी चेकिंग टीम और पुलिस बल पर धोखाधड़ी और जालसाजी का केस दर्ज किया है। - Money Bhaskar
अब इस मामले में पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर विजलेंस इंस्पेक्टर, SDO, दो JE सहित पूरी चेकिंग टीम और पुलिस बल पर धोखाधड़ी और जालसाजी का केस दर्ज किया है।

गोरखपुर में बिजली विभाग का वसूली कांड सामने आया है। यहां बिजली निगम के अधिकारी और कर्मचारियों ने पहले घर का मीटर स्लो होने की बात कहकर महिला से वसूली की। फिर बकाया वसूली न चुकाने पर उसके घर में विजिलेंस चेकिंग कर फर्जी बिजली चोरी के केस में फंसा दिया। महिला ने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने विजिलेंस इंस्पेक्टर, एसडीओ, 2 जेई सहित पूरी चेकिंग टीम और पुलिस बल पर धोखाधड़ी और जालसाजी का केस दर्ज किया है।

मीटर स्लो बताकर टीम ने की थी वसूली
तिवारीपुर इलाके के इलाहीबाग आगा मस्जिद में शहनाज बानो पत्नी खुर्शीद आलम रहती है। उसका आरोप है कि उनके घर में 4 किलोवॉट का बिजली कनेक्शन है। 10 अक्टूबर को बिजली विभाग की चेकिंग टीम शहनाज के घर पहुंची। टीम में एसडीओ आरके सिंह, जेई सुनील यादव और 2 प्राइवेट लाइनमैन मनोज और संदीप शामिल थे। आरोप है कि चेकिंग के समय टीम ने बताया कि उनके घर का मीटर स्लो चल रहा है। टीम ने तत्काल इसे ठीक कराने को कहा। महिला ने विभाग के लोगों को बताया कि अभी घर पर उनके पति नहीं हैं। शाम में उनके आने के बाद वह मीटर ठीक करा लेगी।

चेकिंग के नाम पर वसूल लिए रुपए
आरोप है कि इसके उसे समय तो टीम वापस चली गई। लेकिन करीब डेढ़ घंटे बाद फिर वापस आ गई और पोल से उनके घर का बिजली कनेक्शन काटने लगे। महिला के पूछने पर टीम ने कहा कि ऊपर से आदेश है। आरोप है कि बिजली न काटने के एवज में अधिकारियों ने महिला से 40 हजार रुपए की डिमांड की। 10 हजार रुपए तत्काल लेकर 30 हजार रुपए शाम तक देने की बात पर अधिकारी चले गए।

शाम को जब महिला के प​ति के घर आने पर इसकी जानकारी उन्हें हुई, तो उन्होंने लाइनमैन से इस बारे में पूछा। खुर्शीद ने शेष 30 हजार रुपए देने से इनकार भी कर दिया। इस पर लाइनमैन ने कहा कि अगर रुपए नहीं दिए, तो विजिलेंस चेकिंग कराकर तुम लोगों को फर्जी बिजली चोरी के केस में फंसा देंगे।

50 हजार नहीं दिए, तो दर्ज करा दिया केस
आरोप है कि 2 दिन बाद 12 अक्टूबर को दोपहर में विजिलेंस इंस्पेक्टर निर्भय नारायण सिंह, एसडीओ आरके सिंह, जेई सुनील यादव व मुकेश पटेल, प्राइवेट लाइनमैन मनोज और संदीप के साथ पहुंचे। उन्होंने घर का बिजली मीटर तोड़ दिया। टीम ने परिवार पर ही आरोप लगा दिया कि उनके मीटर का सील टूटा हुआ है। साथ ही परिवार पर करीब 1.41 लाख रुपए की पेनाल्टी भी लगा दी। आरोप है कि टीम ने इसके एवज में 50 हजार रुपए की डिमांड भी की। न देने पर अधिकारियों ने परिवार पर बिजली चोरी का केस दर्ज करा दिया।

पुलिस ने नहीं की मदद, तो कोर्ट पहुंची महिला
महिला ने पहले तो इसकी शिकायत पुलिस और अधिकारियों से की। लेकिन जब कोई सुनवाई नहीं हुई, तो मजबूरन उन्हें कोर्ट का सहारा लेना पड़ा। अब कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने इंस्पेक्टर निर्भय नारायण सिंह, एसडीओ आरके सिंह, जेई सुनील यादव व मुकेश पटेल, प्राइवेट लाइनमैन मनोज और संदीप ​सहित पूरी चेकिंग टीम व पुलिस टीम के खिलाफ केस दर्ज किया है।

खबरें और भी हैं...