पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

UP TET में सेंधमारी का मॉडल- 2 भी पढ़िए:गिरोह 5 लाख में पास कराने की गारंटी लेता है, इनके गुर्गे बैठते हैं परीक्षा में

गोरखपुर8 महीने पहलेलेखक: उत्कर्ष श्रीवास्तव
  • कॉपी लिंक
अयोध्या के परीक्षा केंद्र में ये तीनों दूसरों के नाम पर परीक्षा दे रहे थे। - Money Bhaskar
अयोध्या के परीक्षा केंद्र में ये तीनों दूसरों के नाम पर परीक्षा दे रहे थे।

UP TET परीक्षा में पेपर लीक के अलावा सेंधमारी का दूसरा मॉडल भी सामने आया है। गोरखपुर STF ने अयोध्या के गुरुनानक पीजी कॉलेज से 3 सॉल्वर्स को गिरफ्तार किया है। यह तीनों अपने आका के निर्देश पर परीक्षार्थियों से मोटी रकम वसूल कर उनकी जगह परीक्षा दे रहे थे। STF ने उनके मोबाइल से फेक आईडी भी बरामद की है।

इन सॉल्वर्स के पास भी लीक पर्चे पहुंचे थे। ये 5 लाख रुपए में परीक्षा पास कराने का ठेका लेते थे। एसटीएफ को वो मोबाइल नंबर भी मिल गए हैं, जिन नंबरों से प्रदेश भर में पर्चे वॉट्सऐप के जरिए साल्वरों को भेजे जा रहे हैं।

5 और साल्वरों को STF ने किया लोकेट
पकड़े गए आरोपियों की पहचान सुल्तानपुर के रहने वाले संदीप वर्मा, मैनपुरी के रहने वाले महेश चंद्र और अंबेडकरनगर के रहने वाले रमेश गुप्ता के रुप में हुई है। STF तीनों से पूछताछ कर रही है। शुरूआती पूछताछ में पता चला है ​कि इस पूरे मामले में एक बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है।

STF का दावा है कि इस गैंग के अन्य सदस्यों सहित सरगना की तलाश के लिए टीमें लगी हुई हैं। उन्हें भी जल्द पकड़ लिया जाएगा। सिर्फ अयोध्या और फैजाबाद में 8 से अधिक सॉल्वर दूसरे परीक्षार्थियों की जगह परीक्षा दे रहे थे।

जिम्मेदारों की भूमिका की भी जांच कर रही STF

एसएसपी STF हेमराज मीणा ने बताया कि फिलहाल पकड़े गए सभी आरोपी महज सॉल्वर हैं। इसके पीछे एक बड़ा गैंग काम कर रहा है। उनकी तलाश में STF प्रदेश भर के शहरों में छापामारी कर रही है। सीधा पर्चा लीक होना कहीं न कहीं जिम्मेदारों की संलिप्तता को भी दर्शाता है। इस मामले में टीम हर एक पहलुओं पर जांच कर रही है। उन लोगों से भी पूछताछ की जा रही है, जिनके नाम पर ये लोग पेपर दे रहे थे।

सॉल्वर गिरोह के कई चैनल

STF का दावा है कि इस गैंग के कई अन्य सदस्यों को भी ट्रेस कर लिया गया है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस पूरे नेक्सस में नीचे से उपर तक कई चैनल काम कर रहे हैं। सबके काम बांटे गए थे। फिलहाल पकड़े गए आरोपी के उपर अभी कई सीढ़ियां हैं। आशंका है कि इनमें कई सफेदपोशों के भी नाम उजागर हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं...