पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चौराहों पर CCTV लगवाने वालों के घर बजेगा पुलिस बैंड:ADG खुद पहुंच माला पहनाकर करेंगे सम्मानित, ताकि पूरा शहर CCTV से हो सके लैस

गोरखपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोरखपुर में अब चौराहों, गलियों और मोहल्लों को गोद लेकर CCTV लगवाने वालों के घर पुलिस का बैंड बजाया जाएगा। खुद ADG गोरखपुर जोन बैंड बाजे के साथ उनके घर पहुंचेंगे। माला पहनाकर उन्हें सम्मानित करेंगे। ये सब इसलिए किया जा रहा है, ताकि ज्यादातर लोग आगे आएं। क्राइम कंट्रोल के साथ अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस को मदद मिल सके।

त्रिनेत्र के तहत लगने हैं CCTV
ADG अखिल कुमार ने बताया, "अभियान चलाकर जोन के 11 जिले गोरखपुर, देवरिया, महराजगंज, कुशीनगर, संतकबीरनगर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, गोंडा, बलरामपुर, बहराइच और श्रावस्ती के हर चौराहों, गलियों, मोहल्लों में CCTV लगवाया जा रहा है। इसमें उन शहरों के जनप्रतिनिधि, डॉक्टर, कोचिंग संचालक, व्यापारी से मदद ली जा रही है।

वे गोद लेकर चौराहे पर CCTV लगवा रहे हैं। हालांकि, अभियान को शुरू हुए करीब 20 दिन हो गए हैं। लेकिन अभी तक ज्यादातर लोग गोद लेने के लिए आगे नहीं आए हैं। इसलिए एडीजी ने अब गोद लेकर सीसीटीवी लगवाने वाले लोगों को सम्मान देने के लिए उनके घर पर पुलिस बैंड बजवाने के साथ ही खुद पहुंचने का फैसला किया है। ताकि उनके सम्मान को देखकर और लोग आगे आएं।

सीसीटीवी लगने के बाद क्राइम कंट्रोल में मदद मिलेगी।
सीसीटीवी लगने के बाद क्राइम कंट्रोल में मदद मिलेगी।

क्राइम करके भाग नहीं सकेंगे अपराधी
एडीजी का मानना है कि पहले लोग CCTV कैमरा नहीं लगवाते थे। अब घर और दुकान के बाहर कैमरा लगवाए जा रहे हैं। आईटीएमएस के तहत भी गोरखपुर जैसे बड़े शहर में चौराहों पर कैमरे लगे हैं। जिसकी मदद पुलिस को मिल रही है। लेकिन यह नाकाफी है। अभी भी कई गलियां, मोहल्ले, देहात के क्षेत्र सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं।

जिससे पुलिस को क्राइम के बाद अपराधियों को पकड़ने में दिक्कत आती है। उनका कहना है कि जब चारों तरफ चाहे वह गली हो, चौराहा हो, मोहल्ला हो, गांव हो कैमरा होगा तो अपराधी भी अपराध करने से हिचकिचाएगा। अगर उसने कोई वारदात कर भी दिया तो उसे आसानी से कैमरों की मदद से पकड़ा जा सकता है।

एक चौराहे पर खर्च होंगे करीब 50 हजार
एडीजी ने बताया कि एक चौराहे को सीसीटीवी से लैश करने पर करीब 50 हजार रुपये खर्च होंगे। इस लिए शहर के व्यापारियों आदि से मदद लिया जाएगा। हालांकि पहले से भी कुछ व्यापारियों ने कुछ चौराहों को गोद लेकर कैमरे लगवाए हैं। लेकिन बैंड उनके घर पर नहीं बजेगा।यह केवल त्रिनेत्र अभियान के तहत कैमरा लगवाने वालों के घर पर बजेगा। एडीजी अखिल कुमार ने कहा कि जोन के सभी जिलों को सीसीटीवी लगाने के अभियान चलाया जा रहा है। अभियान में ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ें और पुलिस की मदद करें इसलिए उनके सम्मान के लिए बैंड बजवाने का फैसला लिया गया है।

खबरें और भी हैं...