पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोला के स्कूलों में हुई गर्मियों की छुट्टियां:छात्रों के खिल उठे चेहरे, कहा- तपती धूप से मिली राहत, जाएंगे नानी के घर

गोलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोला के बीएसएन ग्लोबल स्कूल शाहपुर में गर्मी की छुट्टियां होने से गुरुवार को विद्यार्थियों के चेहरे प्रसन्नता से खिल उठे। बच्चों ने खुशमिजाज मुड से कहा कि चलो अच्छा हुआ, इस तपती गर्मी से पीछा तो छुटा, धूप में घर से जाना बहुत कठिन अनुभव रहा।

विद्यालय में दोपहर बाद अंतिम घंटी की टनटनाहट सुनते ही खाली टिफिन व पानी कि बोतल तथा बस्ते लेकर बच्चे खुले आकाश में पंक्षी की तरह उड़े। एक माह के अवकाश को लेकर सबने अपने सपने बुने हैं, जिन्हें अपने अभिभावकों के माध्यम से पूरा करने की सभी ने सोच रखा हैं।

खुले आकाश में उड़े बच्चे

एक अप्रैल से शुरु हुआ नवीन शिक्षा का प्रारंभिक सत्र गुरुवार को पूरा हो गया। भीषण गर्मी में विद्यार्थियों ने कक्षाओं में उपस्थिति दर्ज कराते हुए कठिन परिश्रम किया। इस दौरान लगभग हर विषय के तीन से चार पाठ पढ़ा दिए गए। गुरुवार को विद्यार्थियों को समर हॉलीडे होमवर्क और प्रोजेक्ट वर्क दे कर गर्मी की छुट्टियां घोषित कर दी गईं।

नानी के घर जाने का बनाया प्लान

अब स्कूल जून के अंतिम सप्ताह में खुलेंगे। छुट्टी की घोषणा होते ही नौनिहालों के तन मन झंकृत हो उठे। किसी ने नानी के यहां घूमने जाने का कार्यक्रम बनाया है तो कोई छुट्टियों में हिल स्टेशन पर जाने वाला है। इन्हीं सपनों को मन में बुनते हुए नौनिहाल गुरुवार को घर पहुंचे।

रिश्ते मजबूत करते हैं बच्चे

विद्यालय के निदेशक जे.के.जायसवाल ने कहा कि गर्मियों की छुट्टियां ही वह समय है, जब माता-पिता अपना बच्चों के साथ पूरा वक्त बिताकर उनके साथ अपना रिश्ता मजबूत बना पाते है। यही सही समय होता है जब बच्चे कुछ नया सीख सकते है और परिवार के परिवेश में उनका सही विकास होता है। उन्हे पढ़ाई के अलावा दूसरी कलात्मक या रचनात्मक गतिविधियों में शामिल करना चाहिए। जिससे बच्चों को अपनी रुचि के अनुसार बहुत कुछ नया सीखने को मिलें।

गर्मी की छुट्टियों में बच्चों की ऊर्जा का सही इस्तेमाल करना जरूरी है। इस अवसर पर दीपक सिंह, चन्द्रमति यादव, वर्षा श्रीवास्तव, कुसुम, सुमन आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...