पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कैम्पियरगंज में फर्जी उत्तराधिकार प्रमाण पत्र बनवाने का आरोप:एसडीएम के निर्देश पर पुलिस ने दर्ज किया मारपीट एवं फर्जीवाड़े का मुकदमा

कैम्पियरगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कैम्पियरगंज क्षेत्र की पीपीगंज पुलिस ने एसडीएम के निर्देश पर मृतक आश्रित में नौकरी पाने के लिए कूटरचित उत्तराधिकार प्रमाण पत्र बनवाने के आरोपी युवक के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

मृतक आश्रित के लिए चल रहा विवाद

पीपीगंज थानाछेत्र के डाढाडीह निवासी राम दवन सिंह मदन मोहन मोहन मालवीय इंटर कालेज में अध्यापक थे।वर्ष 2006 में उनका निधन हो गया।जिसके बाद उनकी पत्नी को अनुकम्पा के आधार पर श्याम कृष्ण इंटर कालेज थवईपार में नौकरी मिल गयी।रामदवन सिंह के दो पुत्र एवं एक पुत्री है।पिता की नौकरी को लेकर बड़े बेटे बृजेश का उसकी माँ एवं छोटे भाई राजकुमार से हुए विवाद के बाद बृजेश अलग रहने लगा।इसी दौरान 2020 में रामदवन सिंह की पत्नी की भी नौकरी के दौरान मौत हो गयी।जिसके बाद माँ की जगह मृतक आश्रित में नौकरी के लिए दोनों भाइयों बृजेश सिंह एवं राजकुमार के बीच विवाद शुरू हो गया।

इसी बीच बड़े पुत्र बृजेश सिंह ने मृतक आश्रित कोटे के तहत उत्तराधिकार प्रमाण पत्र लगाकर आवेदन कर दिया, जिसकी जानकारी मिलने के बाद छोटे बेटे राजकुमार ने आपत्ति दर्ज कराते हुए विभागीय अधिकारियों को प्रार्थना पत्र देकर जांच की मांग की थी।जिसके बाद कैम्पियरगंज के उपजिलाधिकारी पंकज दीक्षित ने जांच के दौरान बृजेश सिंह द्वारा आवेदन के साथ लगे प्रमाण पत्रों की जांच में उत्तराधिकार प्रमाण पत्र को कूटरचित एवं फर्जी पाया।

पीपीगंज छाने में दर्ज हुआ मुकदमा।
पीपीगंज छाने में दर्ज हुआ मुकदमा।

एसडीएम के निर्देश पर दर्ज हुआ मुकदमा

कैम्पियरगंज के उपजिलाधिकारी पंकज दीक्षित के आदेश पर राजकुमार सिंह की तहरीर पीपीगंज पुलिस ने आरोपी बृजेश कुमार सिंह पुत्र स्व0 रामदवन सिंह निवासी डाढ़ा डीह के खिलाफ अभियुक्त द्वारा मारपीट करना व फर्जी उत्तराधिकार प्रमाण पत्र बनवा लेने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

इस सम्बंध में एसडीएम पंकज दीक्षित ने कहा कि बृजेश कुमार सिंह द्वारा कूट रचित कर फर्जी उत्तराधिकार प्रमाण पत्र बनावकर मृतक आश्रित कोटे के तहत एक विद्यालय में आवेदन किया था।जिसके सत्यापन के बाद पीपीगंज पुलिस को मकदमा दर्ज कर कार्यवाही करने का निर्देश दिया गया था।

खबरें और भी हैं...