पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाले की सफाई के लिए किसानों ने किया प्रदर्शन:10 गांवों में बारिश के समय हो जाता है जलभराव, अधिकारी ने कहा- अगले साल होगी सफाई

गोंडा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते ग्रामीण। - Money Bhaskar
प्रदर्शन करते ग्रामीण।

गोंडा में पेड़ार नाले की दशकों से सफाई न होने के कारण आस पास क्षेत्रों के बारिश का पानी से जलभराव से दर्जनों गांवों के लोग हलकान होते हैं। नाले की सफाई नहीं होने से नाराज किसानों ने शनिवार को प्रदर्शन किया। किसानों ने कहा, कि अगर नाले की सफाई नहीं कराई गई तो बारिश में जलभराव के चलते सैकड़ों एकड़ फसल बर्बाद हो सकती है।

किसानों ने नाले की सफाई कराने की मांग की है। इटियाथोक ब्लॉक क्षेत्र के ग्राम पंचायत पूरे मुसद्दी में पेड़ार नाला से बरसात का पानी निकलता है। सिल्ट और झाड़ियों से पट जाने की वजह से नाले से जल निकासी नहीं हो पाती है। इसके चलते हर साल सैकड़ों एकड़ भूमि में बुआई की जाने वाली धान और गन्ने की फसल बर्बाद हो जा रही है।

नाले में घांस-फूस जमा हो गई है।
नाले में घांस-फूस जमा हो गई है।

ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन
गांव तिवारी पुरवा के पास इकट्ठा होकर किसानों ने सफाई कराने की मांग करते हुए प्रदर्शन किया। प्रदर्शन कर रहे किसान राजेश, बिहारी, राजित राम, भगोले, राजेश सिंह, राजू सिंह, मलखान यादव, लहरी यादव आदि ने कहा, कि इस ड्रेन की हेड से टेल तक सफाई कराने के लिए काफी बजट मिला है। ब्लॉक क्षेत्र में सिंचाई विभाग ने कई जगहों पर जेसीबी से सफाई करा दी है, लेकिन इधर सफाई नहीं कराई जा रही है।

इन गांवों में होती है समस्या
बारिश का मौसम अब करीब है। नाले की सफाई न होने से परास खाल, पेड़ार गांव, बनकटवा, भटपुरवा, कोठार, पंडित पुरवा, रामसहायक पुरवा, पूरे मुसद्दी गांव के किसानों का काफी नुकसान हो रहा है। बरसात के महीने में पानी खेतों में भरे रहने से गन्ना और धान की फसल बर्बाद हो जाती है। किसानों ने बताया कि लगभग पांच किलोमीटर तक नाले में अभी तक सफाई जेसीबी से नहीं कराई गई है।

सिंचाई विभाग के एसडीओ प्रदीप कुमार मौर्य का कहना है कि, अभी बजट उपलब्ध नहीं है अगले साल मार्च तक नाले की सफाई कराई जाएगी।

ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर नाले की सफाई की मांग की।
ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर नाले की सफाई की मांग की।