पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो विधानसभा से सटे गांव में नहीं पहुंचा विकास:रेल लाइन से होकर गुजर रहे ग्रामीण, बारिश में दो किमी घूम कर जाना पड़ता है बाजार

गोंडा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोंडा का कर्नलगंज नगर से सटे गांव दो विधानसभा क्षेत्र की सीमा होने के कारण विकास न होने का दंश झेल रहा है। इसके साथ ही लखनऊ से गोंडा जाने वाली रेलवे लाइन भिम्भापुरवा के विकास में बाधक बनी हुई है। गांव के लोगों को आने जाने के लिए रेल लाइन से होकर गुजरना पड़ता है। इसके साथ ही नगर परिषद कूड़ा डम्प कर रहा है। जिससे ग्रामीण काफी परेशान हैं।

कर्नलगंज नगर से भिम्भापुरवा की दूरी लगभग सौ मीटर है। मगर ग्रामीणों को दो किलोमीटर दूर रास्ता तय करके आना पड़ता है। भिम्भापुरवा रेलवे लाइन के दूसरी पार वाले गांव के लोगों को बारिश में निकलने के लिए दिक्कत का सामना करना पड़ता है। रेलवे लाइन के पार वाले इलाके को दो ग्राम पंचायतों में विभाजित किया गया है। जिसमें आधा इलाका सकरौरा ग्रामीण और आधा करनैलगंज ग्रामीण के नाम से जाना जाता है।

आवागमन की नहीं है सुविधा
भिम्भापुरवा गांव से नगर आने के लिये कोई मुकम्मल रास्ता नहीं है। यहां के लोग रेलवे स्टेशन पार कर नगर में प्रवेश करते है। बारिश के दिनों में लाइन के बगल में पानी भर जाने से गांव से निकलना मुश्किल हो जाता है। गांव के लोग हटही मार्ग का प्रयोग कर आते जाते हैं। स्थानीय राहुल का कहना है कि नगर आने वाली सड़कों में सबसे खराब करनैलगंज-हटही मार्ग है।

जनप्रतिनिधि नहीं दे रहे ध्यान
भोलू ने बताया कि नगर से मात्र एक किलोमीटर चलते ही विधानसभा करनैलगंज की सीमा समाप्त हो जाती है और कटरा विधानसभा शुरूआत हो जाती। विधानसभा की सीमा होने के चलते जनप्रतिनिधि इस तरफ ध्यान नहीं देते है।

कर्नलगंज नगर से सटे भिम्भापुरवा के लोगों आवागमन के लिए करना पड़ता है रेलवे लाइन पार।
कर्नलगंज नगर से सटे भिम्भापुरवा के लोगों आवागमन के लिए करना पड़ता है रेलवे लाइन पार।

हटही मार्ग पर किया जा रहा कूड़ा डंप
इसके साथ ही सड़क पर ही नगर से निकलने वाले कूड़े को डंप किया गया है। रेलवे फाटक के दोनों तरफ सड़क की पुलिया टूटी होने के चलते इधर से निकलना खतरों से भरा सफर साबित हो रहा है। इस मार्ग से प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोगों का आवागमन होता है।

जल्द ठीक करायी जाएगी सड़क​​​​​​​
पीडब्लूडी के एक्सईएन विनोद त्रिपाठी कि सम्बन्धित कर्मियों से मार्ग की बदहाली पर जानकारी लेकर शीघ्र ही इसे ठीक करवाया जायेगा। इसके साथ ही मार्ग के किनारे की झाड़ियां भी साफ होंगी।

खबरें और भी हैं...