पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोंडा रेलवे स्टेशन का विस्तार शुरू:डेढ़ करोड़ की लागत से होगा निर्माण, मार्च के अंत में होगा पूरा, कई जिलों के लोगों सहित व्यापारियों को होगा फायदा

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोंडा में पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा लखनऊ के बादशाह नगर रेलवे स्टेशन की तर्ज पर डेढ़ करोड़ की लागत से गोंडा रेलवे स्टेशन का विस्तार करेगा। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने मार्च 2022 तक इसे युद्ध स्तर पर पूरा करने की योजना तैयार की है। डीजल शेड स्थित पुराने माल गोदाम को पहले ही सुभागपुर स्थान्तरित किया जा चुका है। यहां खाली पड़े स्थान पर पिछले वर्ष से ही दो नये प्लेटफार्म बनाए जाने का कार्य शुरू हो चुका है। यहां से ट्रेनों का भी संचालन किया जाएगा। बगल के रानी बाजार के लोगों के साथ आम यात्रियों को सहूलियत मिलेगी।

इंटर लॉकिंग का काम तेजी पर

लखनऊ या गोरखपुर से आने-जाने वाली ट्रेनों के आवागमन की दिक्कतें दूर हो जाएंगी। पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ डिवीजन के अंतर्गत आने वाले गोंडा रेलवे स्टेशन को उप मंडलीय रेलवे का दर्जा प्राप्त है। वर्तमान में गोंडा रेलवे स्टेशन पर छह प्लेटफार्म है। प्लेटफार्म नंबर 4 और 5 पर यार्ड में नॉन इंटरलॉकिंग न होने से दोनों प्लेटफार्म से ट्रेनों का आवागमन नहीं हो पा रहा है। यार्ड में इंटरलॉकिंग का काम भी तेजी से कराया जा रहा है। उम्मीद है कि फरवरी माह तक कार्य को पूरा हो जाएगा। जिससे इन प्लेटफार्मों पर ट्रेनों का आवागमन सुचारू से शुरू होने लगेगा।

मार्च के आखिर तक पूरा होगा काम

रेलवे बादशाह नगर स्टेशन की तर्ज पर गोंडा रेलवे स्टेशन स्टेशन का विस्तार करते हुए पुराने माल गोदाम का स्वरूप बदलकर यहां डेढ़ करोड़ की लागत से दो नए प्लेटफार्म 7 व 8 बनाकर एक नया स्टेशन का कार्य तेजी से शुरू है। रेलवे विभाग के निर्माण इकाई के अधिकारियों ने बताया कि मार्च के अंत तक नया स्टेशन बन जाने की उम्मीद है। दो नए प्लेटफार्म 7 व 8 बनाकर एक नया स्टेशन का कार्य तेजी से शुरू किया जाएगा। मुख्यालय के मुख्य स्टेशन पर यात्रियों का भार कम होने के साथ ट्रेनों का संचालन सुरक्षित और नियमित रूप से हो सकेगा।

कई जिलों के व्यापारियों को होगा लाभ

प्लेटफार्म बनने से जनपद वासियों के साथ-साथ कचहरी स्टेशन, मैजापुर, करनैलगंज के लोगों व व्यापारियों, मजदूरों कर्मचारियों लाभ मिलेगा। जिन स्टेशनों पर सन्नाटा फैला रहता था, वहां डेमू और मेमो के चलने से लाभ होगा। वहीं बहराइच जाने वाले यात्रियों को फायदा होगा। रेल से यात्रा करने में आसानी और अच्छी सहूलियत मिलेगी। रानी बाजार क्षेत्र का बड़े पैमाने पर विकास होगा।

सुविधाओं के साथ सुरक्षा पर जोर

पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह ने बताया कि पूर्वोत्तर रेलवे गोंडा रेलवे यार्ड का तेजी से विकास करने में जुटा है। यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने के साथ ही सुरक्षा का प्रदान करने के लिए बहुत जल्द इस माल गोदाम को एक नए स्टेशन में परिवर्तित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इससे यात्रियों को काफी सहूलियत मिलेगी।

नए स्टेशन पर आने के लिये नए रास्ते की भी मांग उठी

नए स्टेशन पर आने के लिए उत्तर दिशा खैरा कॉलोनी की तरफ से रास्ते सड़क की मांग उठ रही है। लोगों का कहना है कि दूसरे तरफ से सड़क बनने पर रानीबाजार की तरफ दबाव भी कम हो जाएगा और लोगों को काफी सहूलियत भी होगी।