पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अधूरा पड़ा राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण:गोंडा में सपा शासन में स्वीकृत भाजपा शासन काल में भी नहीं हुआ पूरा, करोड़ों की परियोजनाओं पर लगा ताला

गोंडा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधूरा पड़ा राजकीय इंजीनियरिं� - Money Bhaskar
अधूरा पड़ा राजकीय इंजीनियरिं�

गोंडा में सपा शासनकाल में राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज की स्वीकृति और निर्माण शुरू होने के बाद भी 5 साल भाजपा शासन काल के बीतने को है लेकिन राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण पूरा नहीं हुआ। पिछले महीने जब योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री गोंडा आए थे तो इस इंजीनियरिंग कॉलेज का भी लोकार्पण किया था। इसके बावजूद भी यह इंजीनियरिंग कॉलेज जस का तस पड़ा हुआ है। हालांकि इंजीनियरिंग कॉलेज का 70 से 80% निर्माण हो चुका है। अब रंग रोगन का कार्य चल रहा है।

इसके बावजूद ना तो खिड़की लगे हैं ना दरवाजे लगे हैं और ना ही यहां की सड़कें पूर्ण हैं। जबकि दावा किया गया था कि इस शिक्षा सत्र में इंजीनियरिंग कॉलेज में बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। लेकिन इंजीनियरिंग कॉलेज के भवन को देखकर ऐसा नहीं लग रहा है कि इस वर्ष यहां प्रवेश दिया जा सकता है। प्रदेश के सी एंड डीएस संस्था द्वारा इस इंजीनियरिंग कॉलेज का लगभग 44 करोड़ की लागत से निर्माण कराया जा रहा है जो गोंडा से उतरौला रोड स्थित पॉलीटेक्निक कॉलेज के प्रांगण में ही निर्माण हो रहा है।

75 करोड़ की लागत से 4 संस्थान पर पड़ा है ताला, बेचने का निकाला गया है टेंडर

पूर्व कैबिनेट मंत्री योगेश प्रताप सिंह ने बताया सपा शासन काल मे करनैलगंज के सकरौरा में प्रदेश का पहला मत्स्य शोध संस्थान, कृषि महाविद्यालय, महाशय पतञ्जलि सूचना प्रौद्योगिक पॉलीटेक्निक भवन निर्मित है तथा सुसंडा में आईटीआई, सभी भवन लगभग 75 करोड़ की लागत से बना था। सभी इस पांच वर्ष में संचालित नहीं किए गए। सभी में ताला पड़ा हुआ है, पूरा परिसर जंगल झाड़ियों में तब्दील हो गया है। इन भवनों को बेचने के टेंडर निकाला गया है।

मनकापुर में लाखों की लागत से बना बीज उत्पादन केंद्र में पड़ा ताला

मनकापुर में सपा शासन काल में लाखों की लागत से बीज उत्पादन केंद्र का भवन निर्माण के मशीने भी स्थापित की गईं थी, लेकिन इस संस्थान कभी संचालन नहीं किया गया। इस केंद्र पर भी ताला पड़ा हुआ है।