पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जमानियां में 1साल से फार्मासिस्ट के भरोसे चल रही पीएचसी:दस बेड के अस्पातल का लोगों को नहीं मिल रहा लाभ

जमानियांएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आठ पद वाली सीएचसी में चार कर्मी हैं तैनात। - Money Bhaskar
आठ पद वाली सीएचसी में चार कर्मी हैं तैनात।

सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को समय से चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पा रही है। इसकी एक बानगी जमानियां क्षेत्र के उत्तरौली गाँव में देखने को मिली। यहां की पीएचसी बीते एक साल से बिना डाक्टर की तैनाती नहीं हुई है। वर्तमान समय में यह स्वास्थ्य केन्द्र फार्मासिस्ट सिद्धार्थ सिंह के सहारे संचालित हो रहा है ।

गुरूवार की सुबह करीब साढे नौ बजे स्वास्थ्य केन्द्र पर केवल फार्मासिस्ट सिद्धार्थ सिंह मौजूद थे। वह जो मरीजों को चेकअप कर दवाएं दे रहे थे, जबकि अन्य कर्मी नदारद रहे। लोगों ने बताया कि कहने को तो यह स्वास्थ्य केन्द्र दस बेड का होने के साथ ही यहाँ चिकित्सकीय सुविधाएं उच्च स्तर की है। लेकिन इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है।

कुल आठ पद हैं सृजित

विभाग के अनुसार यहाँ कुल आठ पद सृजित है। जिनमें चिकित्साधिकारी ,फार्मासिस्ट,वार्ड ब्वाय ,स्वीपर ,लैब असिस्टेंट और दो एनएमए शामिल हैं। जबकि, वर्तमान में यहां एक फार्मासिस्ट, एक वार्ड ब्वाय, दो एएनएम और एख स्वीपर तैनात हैं।

जर्जर हो गई है पीएचसी की बिल्डिंग
जर्जर हो गई है पीएचसी की बिल्डिंग

लोगों का आरोप, दवाओं का बना रहता है टोटा

लोगों ने बताया कि कहने को यहां दवाओं का टोटा बना हुआ है। लेकिन, विभागीय अधिकारियों इनकी उपलब्धता और मरीजों की सुविधाओं को लेकर लापरवाह बने है। जिसके कारण मरीज अब यहाँ आना नहीं चाहते है। वे विवश होकर भदौरा,रेवतीपुर या जिला मुख्यालय जाने को‌ मजबूर है ।

तीन दशक पूर्व एक करोड़ की लागत से कराया गया था निर्माण।
तीन दशक पूर्व एक करोड़ की लागत से कराया गया था निर्माण।

आधा दर्जन गावों का है एक मात्र सहारा
ग्रामीणों ने बताया कि यह स्वास्थ्य केन्द्र करीब आधा दर्जन गावों से जुडा है। पिछले तीन दशक पूर्व एक करोड़ की लागत से इसका निर्माण कराया गया। ताकि लोगों को दिन रात समय से बेहतर चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध हो सके। लेकिन अब यह स्वास्थ्य केन्द्र जर्जर हो गया है। यहां तैनात डाक्टर अनिल का स्थानांतरण रेवतीपुर हो गया है। उसके बाद से किसी की तैनाती नहीं हो सकी ।वहीं, डीएम एम पी सिंह ने बताया कि यह हैरानी की बात है ,बहरहाल डाक्टर की जल्द तैनाती के लिए महकमें को निर्देशित किया गया है।

खबरें और भी हैं...