पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स का शुरू नहीं हो सका निर्माण:19 का ही निर्माण पूरा, 15 हैंडओवर, 4 पर लटक रहा ताला, 2 निर्माणाधीन

जमानियां2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य महकमें के उदासीनता के कारण गाजीपुर जिले के जमानियां तहसील क्षेत्र में चार साल बाद भी आयुष्मान योजना के तहत स्थानीय जमानियां तहसील के विभिन्न ग्राम पंचायतों में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स का निर्माण आज भी पूरा नहीं हो सका है। जिसके चलते ग्रामीण व नगरीय क्षेत्रों के लोगों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है।

महकमें के अनुसार जमानियां पूरे तहसील क्षेत्र जिसमें करीब 130 ग्राम पंचायतें जिनकी आबादी साढे तीन लाख है। उसके करीब 70 हजार परिवार निवास करते हैं, इन विभिन्न ग्राम पंचायतों में करीब पांच करोड़ की लागत से 52 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स का निर्माण 2018 में शुरू कराया गया। मगर जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण अभी तक 19 का ही निर्माण पूरा हो सका है, जिनमें 15 चालू हालत में है, जबकि 4 को आज तक हैंड ओवर ही नहीं किया गया। जबकि 2 निर्माणाधीन है। शेष 31 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स का निर्माण चार साल बाद भी शुरू नहीं हो सका है।

ओपीडी जल्द शुरु करने की मांग
रोनिया, पल्लवी, किरन, जय पांडेय, सत्यप्रकाश, बबलू आदि ग्रामीणों का कहना है कि जहां निर्माण शुरू नहीं हुआ। वहां जल्द कार्य प्रारंम्भ कर ओपीडी जल्द शुरु किया जाए। ग्रामीणों का कहना है कि इन स्वास्थ्य सेंटरों को डिजिटल तर्ज पर विकसित करना सरकार की मंशा है। जिसका पूरा रखरखाव डिजिटल तरीके से करना है। इसको लेकर केंद्रों पर तैनात होने वाले सभी सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) को विभाग ने आधुनिक उपकरण भी दिए थे, ताकि डाटा ऑनलाइन रहे। मगर सब कागज पर हो रहे हैं।

स्थानीय लोगों ने मांग की है कि ओपीडी जल्द से जल्द शुरू की जाए।
स्थानीय लोगों ने मांग की है कि ओपीडी जल्द से जल्द शुरू की जाए।

बेहतर चिकित्सा उपलब्ध कराने की है योजना
​​​​​​​
केंद्र पर आने वाले मरीजों की प्रोफाइल के साथ ही उनका आईडी बनाना और पूरा डाटा को डिजिटल तरीके से रखना है। इसके अलावा मरीजों का सीबैक फार्म, टेलीमेडिसिन की सुविधा भी प्रदान करने के साथ गंभीर मरीजों को बेहतर चिकित्सा भी उपलब्ध कराने की योजना है, लेकिन ये सब कागजों में चल रहा है। इस संबंध में सीएमओ डाक्टर हरगोविंद सिंह ने बताया कि निर्माणाधीन हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों का निर्माण जल्द ही पूरा करा लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...