पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अग्निपथ के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा ने किया प्रदर्शन::गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों को रिहा की मांग, कहा-स्कीम को तत्काल रद्द करे सरकार

गाजीपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने "अग्निपथ" योजना के विरोध में कामरेड सरजू पान्डेय पार्क में प्रदर्शन किया। इसके साथ युवाओं पर दर्ज मुकदमे वापस लेने, बिना शर्त रिहा करने की मांग की।

4 साल के बाद न तो ग्रेच्युटी मिलेगी न ही पेंशन
उत्तर प्रदेश किसान सभा प्रदेश महामंत्री पूर्व विधायक राजेंद्र यादव ने कहा कि अग्निवीर नामक इन अस्थाई कर्मचारियों को न तो कोई रैंक दिया जाएगा। न ही 4 साल के बाद कोई ग्रेच्युटी या पेंशन। चार साल की सेवा समाप्त होने के बाद इनमें से एक चौथाई या उससे भी कम को ही सेना में पक्की नौकरी दी जाएगी। यह अफसोस की बात है कि सरकार ऐसे बदलाव उस समय ला रही है, जबकि पिछले कुछ वर्षों में पड़ोसी देशों की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा गहरा हुआ है।

अग्निपथ को लेकर किसानों ने किया प्रदर्शन।
अग्निपथ को लेकर किसानों ने किया प्रदर्शन।

भूमि बचाओ मोर्चा के रामाश्रय यादव ने कहा कि सेना के भूतपूर्व जनरल, अफसरों, परमवीर चक्र जैसे शौर्य पदक प्राप्त सैनिकों और सैन्य विशेषज्ञों ने इस योजना पर गंभीर सवाल उठा रहे हैं, लेकिन सरकार की तरफ से इनका कोई जवाब नहीं आया है। सेना में भर्ती के आकांक्षी युवाओं और देश के किसान परिवारों के लिए भी यह बहुत बड़ा धोखा है। भाकपा (माले) जिला सचिव रामप्यारे राम ने कहा कि सभी स्थाई सरकारी नौकरियों को ठेके पर दिया जा रहा है। कॉन्ट्रैक्ट की नौकरी में बदला जा रहा है। देश की संपत्तियां प्राइवेट कंपनियों को बेची जा रही है। पूरे देश का नीति निर्धारण चंद कॉरपोरेट घरानों का हित साधने के लिए किया जा रहा है।

किसानों ने प्रदर्शन कर अग्निपथ योजना को रद्द करने की मांग की।
किसानों ने प्रदर्शन कर अग्निपथ योजना को रद्द करने की मांग की।

तत्काल रद्द की जाए अग्नीपथ योजना
वक्ताओं ने अग्नीपथ योजना को तत्काल और पूरी तरह रद्द करने की मांग उठाई। सेना में पिछली बकाया वैकेंसी और इस वर्ष रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू किया जाए तथा जो भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो चुकी थी उसे पूरा किया जाए। अग्निपथ विरोधी प्रदर्शनों में शामिल युवाओं के खिलाफ दर्ज सभी झूठे मुकदमे वापस लिए जाएं, गिरफ्तार युवाओं को रिहा किया जाय। धरना प्रदर्शन में संयुक्त किसान मोर्चा के तमाम नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे और महामहिम राष्ट्रपति को संबोधित मांग पत्र नायब तहसीलदार सदर को सौंपा।

खबरें और भी हैं...