पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राज्यमंत्री ने किया लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान:भाजपा ने 47वें आपातकाल दिवस को 'Black day' के रुप में मनाया

गाजीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गाजीपुर में 47 वें आपातकाल दिवस को भारतीय जनता पार्टी ने आज शनिवार को लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान में गोष्ठी आयोजित कर काला दिवस के रूप में मनाया। इस अवसर पर आयोजित गोष्ठी को बतौर मुख्य अतिथि उप्र सरकार के आयुष, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा दयाशंकर मिश्र दयालु ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि 21 माह के आपातकाल के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को प्रतिबंधित, कार्यालयों में ताला के साथ संवाद की स्वतंत्रता को प्रतिबंधित करते हुए प्रेस की आजादी छीन ली गई थी। उन्होंने कहा कि इस दौरान विपक्ष के सभी बड़े नेताओं को जबरदस्ती जेल मे ठूंस दिया गया था। उसी का परिणाम था। कि जनता के आक्रोश के कारण 1977 मे गैर कांग्रेसी सरकार बनी थी।

सभा को संबोधित करते हुए।
सभा को संबोधित करते हुए।

इंदिरा गांधी को बताया तानाशाह प्रवृत्ति की पीएम

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि आज विश्व का हर देश प्रधानमंत्री के पीछे चल रही है। इंदिरा गांधी तानाशाही प्रवृत्ति की थी। उनके सामने उनके पार्टी के नेता ही अपनी बात नही कह सकते थे। श्री मिश्र ने लोकतंत्र सेनानी संघ द्वारा प्रस्तुत मांग पत्र पर ध्यान आकृष्ट कराने का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम में मौजूद लोग।
कार्यक्रम में मौजूद लोग।

विशिष्ट अतिथि राज्यसभा सदस्य सकलदीप राजभर ने कहा कि भारत मे सदैव से अत्याचारी शक्तियों का वर्चस्व रहा है जिनके अत्याचारों के दमन और जनता के कल्याण के लिए दैवीय शक्तियों ने अवतार लिया है।इंदिरा गांधी ने लोकतंत्र के अधिकारों का दुरुपयोग किया था।

विधान परिषद सदस्य विशाल सिंह चंचल ने कहा कि आपातकाल के दौरान जनता की दुर्दशा एवं संवैधानिक अधिकारों के हनन कि गाथाओं को सुनकर मन आश्चर्य चकित रह जाता है कि लोकतंत्र को घाव देने वाली कांग्रेस पार्टी और उसके लोग आज लोकतंत्र की दुहाई दे रहे है। उन्होंने मौजूद लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करते हुए कहा कि आपका त्याग और बलिदान व्यर्थ नही है।आप लोगों की वीरगाथा चेतना मे स्मरणीय रहेगी।

खबरें और भी हैं...