पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वसीम रिजवी की रिहाई पर सुप्रीम सुनवाई 17 मई को:सर्वोच्च अदालत ने कहा- माहौल बिगाड़ना गलत, अच्छा हो कि सभी समुदाय साथ रहें

गाजियाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को हरिद्वार पुलिस ने 13 जनवरी 2022 को गिरफ्तार किया था। - Money Bhaskar
जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को हरिद्वार पुलिस ने 13 जनवरी 2022 को गिरफ्तार किया था।

हरिद्वार धर्म संसद की 'हेट स्पीच' में 13 जनवरी 2022 से जेल में बंद जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी की जमानत अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में 17 मई को सुनवाई होगी। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को गुरुवार को सूचीबद्ध कर लिया है।

अधिवक्ता ने कहा- चार्जशीट दाखिल हुई
गुरुवार को यह जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अजय रस्तोगी और विक्रम नाथ की बेंच के सामने आई। वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा ने दलील देते हुए कहा कि इस मामले में 6 मार्च को निचली अदालत में चार्जशीट दाखिल हो चुकी है। ऐसे में अब आरोपी को हिरासत में रखने की जरूरत नहीं बनती।

याचिका पढ़ते हुए जस्टिस अजय रस्तोगी ने कहा "यह धर्म संसद क्या है? अच्छा हो कि सभी समुदाय साथ रहें। इस तरह से माहौल बिगाड़ना गलत है। अधिवक्ता लूथरा ने जवाब देते हुए कहा कि उनकी दलील कानूनी पहलू पर है। इसलिए अब आरोपी को हिरासत से मुक्त कर देना चाहिए।

वसीम रिजवी की जमानत हाईकोर्ट नैनीताल से पहले ही रद हो चुकी है।
वसीम रिजवी की जमानत हाईकोर्ट नैनीताल से पहले ही रद हो चुकी है।

हरिद्वार धर्म संसद की हेट स्पीच में गए थे जेल
हरिद्वार में 17 से 19 दिसंबर 2021 तक धर्म संसद चली थी। इस दौरान एक समुदाय को मारने जैसी बातें कथित तौर पर कही गईं। हरिद्वार पुलिस ने हेट स्पीच का मुकदमा 23 दिसंबर को दर्ज किया।

इसमें पंचम जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर एवं गाजियाबाद में डासना मंदिर के पीठाधीश्वर यति नरसिंहानंद गिरि और जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी जेल गए। नरसिंहानंद गिरि को हरिद्वार में स्थानीय अदालत से ही जमानत मिल गई, जबकि जितेंद्र त्यागी की जमानत नैनीताल हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है। वह 13 जनवरी 2021 से हरिद्वार जेल में बंद हैं।

वसीम रिजवी ने 6 दिसंबर 2021 को गाजियाबाद में धर्मांतरण किया था।
वसीम रिजवी ने 6 दिसंबर 2021 को गाजियाबाद में धर्मांतरण किया था।

रिजवी ने गाजियाबाद में किया था धर्म परिवर्तन
6 दिसंबर 2021 को उप्र शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर में आकर धर्म परिवर्तन किया था। उन्होंने इस्लाम धर्म त्याग करते हुए सनातन धर्म ग्रहण किया था। यति नरसिंहानंद गिरि की मौजूदगी में उन्हें जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी नया नाम दिया गया था।