पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यति नरसिंहानंद गिरि को 14 दिन की जेल:महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी में उत्तराखंड पुलिस ने किया था गिरफ्तार, हरिद्वार में साधु-संत विरोध में बैठे

गाजियाबाद5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरिद्वार में जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। 15 जनवरी की रात हरिद्वार पुलिस ने नरसिंहानंद को गिरफ्तार किया था। आज उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। नरसिंहानंद की गिरफ्तारी महिलाओं को लेकर अभद्र टिप्पणी में दर्ज एक मुकदमे में की गई है। 12 जनवरी को महिला ने हरिद्वार पुलिस को शिकायत की थी। उधर, जितेंद्र नारायण सिंह यानी वसीम रिजवी को भी पुलिस 3 दिन पहले हेट स्पीच के मामले में गिरफ्तार कर चुकी है। उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी।

उधर, नरसिंहानंद की गिरफ्तारी को लेकर हरिद्वार के साधु-संत लामबंद हो गए हैं। वह हरकी पैड़ी पर प्रतिकार सभा कर रहे हैं, जहां से उन्हें गिरफ्तार किया गया था।

नरसिंहानंद गिरि की गिरफ्तारी से साधु-संतों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है।
नरसिंहानंद गिरि की गिरफ्तारी से साधु-संतों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है।

मुख्यमंत्री पर हत्या की साजिश का आरोप
इस बीच प्रबोधानंद महाराज का एक सनसनीखेज बयान सामने आया है। एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि यहां का (उत्तराखंड) मुख्यमंत्री स्वयं हमारी हत्या कराना चाहता है। हमें जिहादियों से खतरा है। मैंने लिखित में रिपोर्ट दी है। हमारी सुरक्षा हटा ली गई है। उन्होंने कहा कि भाजपा को हराने के लिए मुख्यमंत्री ने करोड़ों रुपए की फंडिंग कर ली हो। भारत सरकार इसकी जांच कराए।

वसीम रिजवी की जमानत खारिज
हरिद्वार के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मुकेश चंद्र आर्य ने वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया है। ऐसे में वसीम रिजवी को अभी कुछ और दिन जेल में रहना पड़ेगा।