पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजीपुर बॉर्डर से पुलिस ने बैरिकेड्स हटाए:एक्सप्रेस-वे पर 384 दिन बाद शुरू हुआ ट्रैफिक, 40 मिनट की दूरी तय करें अब सिर्फ 5 मिनट में

गाजियाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गाजीपुर बॉर्डर 384 दिन बाद खाली हो गया। सभी किसान यहां से अपने-अपने घरों को लौट गए हैं। सारे टेंट-तंबू उखाड़ लिए गए हैं। बुधवार रात करीब 9 बजे दिल्ली पुलिस ने मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे पर लगी बैरिकेडिंग हटा ली। गाजियाबाद पुलिस ने 16 दिसंबर सुबह 10 बजे से एक्सप्रेस-वे पर वाहन संचालन शुरू करा दिया। गाजियाबाद से वाहन अब सीधे दिल्ली जा सकेंगे। गाजियाबाद में CISF कट से दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर के लिए 40 मिनट की दूरी तय करनी पड़ती थी। लेकिन, अब बैरिकेड्स हट गए तो यह दूरी 5 मिनट में तय कर सकेंगे।

6 लेन पर 16-16 लेयर की बैरिकेडिंग थी
दिल्ली पुलिस ने छह लेन पर 16-16 लेयर बैरिकेडिंग एक साल से लगाई थी, ताकि किसान दिल्ली के अंदर न घुस पाएं। बुधवार रात 9 बजे जेसीबी से दिल्ली पुलिस ने पत्थर के भारी-भरकम बोल्डर हटवा दिए। यूपी पुलिस का प्लान बुधवार देर रात से ही ट्रैफिक शुरू करने का था, लेकिन ऐन वक्त पर मामला अटक गया। उसकी वजह एक कंटेनर बना, जो दिल्ली पुलिस ने एक्सप्रेस-वे के बीच रखवाया है।

दिल्ली पुलिस ने एक्सप्रेस-वे पर रखा यह कंटेनर बुधवार रात तक नहीं हटवाया। इसे गुरुवार को हटाकर यातायात शुरू कराया गया।
दिल्ली पुलिस ने एक्सप्रेस-वे पर रखा यह कंटेनर बुधवार रात तक नहीं हटवाया। इसे गुरुवार को हटाकर यातायात शुरू कराया गया।

दिल्ली पुलिस ने बैरिकेड्स तो हटवा लिए, लेकिन रात तक कंटेनर नहीं हटवाया जा सका। कंटेनर को गुरुवार सुबह हटवाया गया, इसके बाद गाजियाबाद से दिल्ली को आवागमन सीधे शुरू हुआ।

एलिवेटेड रोड अभी नहीं खुला
हिंडन नदी के ऊपर बना एलिवेटेड रोड भी गाजीपुर बॉर्डर पर जाकर मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे से जुड़ता है। यह रास्ता गाजीपुर मुर्गा मंडी के लिए भी जाता है। फिलहाल यह रास्ता बंद रहेगा। अभी एक्सप्रेस-वे के नीचे एलिवेटेड रोड पर मरम्मत कार्य होना बाकी है। यहां पर पानी और अन्य गंदगी है।

लाखों नौकरीपेशा लोगों की दूर होगी दिक्कत
दिल्ली पुलिस की बैरिकेडिंग के चलते यूपी पुलिस ने दो जगहों पर बैरिकेड्स लगा रखे थे, ताकि वाहन गाजीपुर बॉर्डर तक नहीं पहुंच पाएं। फिलहाल, वाहन खोड़ा नगर पालिका गेट से मुड़कर गाजीपुर कूड़े के पहाड़ होते हुए कई किलोमीटर लंबा सफर करके दिल्ली जा रहे थे। सबसे ज्यादा दिक्कत लाखों नौकरीपेशा लोगों को हो रही थी, जिन्हें रोजाना ऑफिस पहुंचने में देरी होती थी। इन लोगों को बड़ी राहत मिली है।

खबरें और भी हैं...