पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन हुआ खत्म:सरकार के संशोधित प्रस्ताव से किसान संगठन सहमत, SKM की कल बैठक में होगा आधिकारिक ऐलान

गाजियाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली की सरहदों पर 26 नवंबर 2020 से चल रहा किसान आंदोलन अब आखिरी दौर में है। सिंघु बॉर्डर पर बुधवार को हुई संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में केंद्र सरकार के सभी प्रस्ताव मान लिए गए हैं। दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए राजस्थान के किसान नेता हिम्मत सिंह गुर्जर ने बताया कि एसकेएम किसान आंदोलन वापस लेने पर सहमत हो गया है।

हालांकि, इसका आधिकारिक रूप से ऐलान तभी किया जाएगा, जब केंद्र सरकार की तरफ से हस्ताक्षर युक्त सहमति पत्र प्राप्त होगा। एसकेएम ने गुरुवार को सिंघु बॉर्डर पर पुनः एक बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में अधिकारिक रूप से ऐलान कर दिया जाएगा।

यूपी से दिल्ली जाने वाले लाखों लोगों को मिलेगी राहत

एसकेएम ने गुरुवार को सिंघु बॉर्डर पर पुनः एक बैठक बुलाई है
एसकेएम ने गुरुवार को सिंघु बॉर्डर पर पुनः एक बैठक बुलाई है

किसान आंदोलन वापसी के बाद अब यूपी से दिल्ली जाने वाले लाखों लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। मेरठ दिल्ली एक्सप्रेस वे पर चार जगह पुलिस और किसानों की बैरिकेडिंग होने से गाजियाबाद से दिल्ली जाने वाले लाखों लोग कई किलोमीटर का अतिरिक्त सफर तय कर रहे थे। किसान आंदोलन वापसी की घोषणा के बाद अब यह माना जा रहा है कि जल्द ही एक्सप्रेस वे से किसानों के तंबू हट जाएंगे, वहीं पुलिस की बैरिकेड्स भी हटा ली जाएंगी।

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने कैंडल मार्च निकाला

तमिलनाडु में विमान हादसे से शोकाकुल किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर कैंडल मार्च निकाला। किसान क्रांति गेट से शुरू हुआ कैंडल मार्च दिल्ली के बॉर्डर पर लगे बैरिकेट्स पर पहुंचा, जहां किसानों ने कैंडल जलाकर शहीदों की आत्मशांति के लिए प्रार्थना की। भारतीय किसान यूनियन युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव टिकैत समेत अन्य किसानों ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी सहित अन्य जवानों की शहादत पर दुख जताया। किसान नेता गौरव टिकैत ने कहा कि यह बेहद दुखद हादसा है। जनरल बिपिन रावत समेत अन्य जवानों की शहादत से देश को अपूरणीय क्षति पहुंची है। इसकी भरपाई नहीं हो सकती।

खबरें और भी हैं...