पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजियाबाद की जगह सुझाए 26 नाम:128 संगठनों ने सरकार को ज्ञापन भेजे, कोई गजप्रस्थ नगर तो किसी को हरनंदी नगर चाहिए नाम

गाजियाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सामाजिक संस्था रसम ने राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल को ज्ञापन देकर गाजियाबाद का नाम बदलने की मांग की है। - Money Bhaskar
सामाजिक संस्था रसम ने राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल को ज्ञापन देकर गाजियाबाद का नाम बदलने की मांग की है।

उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद का नाम बदलने की मुहिम जोर पकड़ रही है। सामाजिक संस्था 'रसम' के आह्वान पर चार साल पहले शुरू हुए इस अभियान में अब तक 128 संगठनों ने नाम परिवर्तन का ज्ञापन उप्र सरकार को भेजा है। शहर में 100 हवन-यज्ञ किए जा चुके हैं। करीब सवा लाख लोगों ने टोल फ्री नंबर पर कॉल करके नाम परिवर्तन की मुहिम को समर्थन दिया है। करीब 26 ऐसे नाम सुझाए गए हैं, जिन्हें गाजियाबाद के स्थान पर बदला जा सकता है। इसमें सबसे प्रमुख गजप्रस्थ नगर है।

गाजियाबाद का प्राचीन नाम गाजीउद्दीन नगर था।
गाजियाबाद का प्राचीन नाम गाजीउद्दीन नगर था।

नाम परिवर्तन अभियान की दिसंबर-2020 को हुई थी शुरुआत
'रसम' के राष्ट्रीय संयोजक एडवोकेट संदीप त्यागी ने बताया, नाम परिवर्तन अभियान की शुरुआत 12 दिसंबर 2020 को हुई थी। उस दिन गाजियाबाद में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ कैलाश मानसरोवर भवन का शुभारंभ करने के लिए आए थे। पहला हवन दूधेश्वरनाथ मंदिर में हुआ था। तब से शहर के विभिन्न इलाकों में 100 हवन हो चुके हैं। संदीप त्यागी ने बताया, हमने नाम परिवर्तन अभियान से जुड़ने के लिए एक टोल फ्री नंबर जारी किया था। इस पर अब तक करीब सवा लाख कॉल्स आए हैं। जनपद के अधिकतर जनप्रतिनिधि इस मांग का समर्थन विभिन्न सदन में कर चुके हैं।

'रसम' संस्था ने शुक्रवार को इस बाबत एक ज्ञापन राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल को भी सौंपा है। इसमें गाजियाबाद का नाम बदलकर गजप्रस्थ नगर करने की मांग की है। ज्ञापन में यह भी बताया है कि कुछ लोगों ने अपने घरों के बाहर स्वेच्छा से 'गजप्रस्थ नगर' लिखना शुरू भी कर दिया है। राज्यसभा सांसद ने इस मांग को जल्द ही सदन में उठाने का भरोसा संस्था को दिया है।

गाजियाबाद का प्राचीन घंटाघर इलाका।
गाजियाबाद का प्राचीन घंटाघर इलाका।

ये नाम सुझाए गए
गजप्रस्थ नगर, दूधेश्वरनाथ नगर, दुधेश्वरपुरम, हरनंदी नगर, हिंडन नगर, प्रगति नगर, विजयनगर, प्रकाशवीर शास्त्रीनगर, अग्रसेन नगर, अटल नगर, दुर्गाभाभी नगर, शिवाजी नगर, महाराणा प्रताप नगर, गंगानगर, परशुराम नगर, चाणक्य नगर, गायत्रीनगर, अब्दुल कलाम नगर जैसे कुल 26 नाम सुझाए गए हैं।

जनप्रतिनिधि पहले ही कर चुके हैं मांग

  • 29 नवंबर 2018 को गाजियाबाद से BJP के राज्यसभा सांसद डॉ. अनिल अग्रवाल ने CM को पत्र भेजकर गाजियाबाद का नाम 'महाराज अग्रसेन नगर' करने की मांग की थी।
  • 10 मार्च 2021 को साहिबाबाद से बीजेपी विधायक सुनील शर्मा ने विधानसभा में गाजियाबाद का नाम बदलकर गजप्रस्थ करने की मांग उठाई।
  • आठ महीने पहले विधायक नंदकिशोर गुर्जर कस्बा लोनी का नाम बदलकर परशुराम नगर करने की मांग डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा से कर चुके हैं।

1740 में गाजी-उद-दीन ने बसाया था गाजियाबाद
विकिपीडिया के अनुसार, गाजियाबाद नगर की स्थापना 1740 में मुगल सम्राट मुहम्मद शाह के वजीर गाजी-उद-दीन ने कोलकाता से पेशावर तक जाने वाली ग्रैंड ट्रंक रोड पर की थी। उनके नाम पर इसे तब गाजी-उद-दीन नगर कहा जाता था। मुगलकाल में गाजियाबाद और इसके आसपास के क्षेत्र विशेषकर हिंडन के तट मुगल शाही परिवार के लिए पिकनिक स्थल थे। 1864 में गाजियाबाद में रेल आगमन हुआ। इसके बाद नगर के नाम को "गाजीउद्दीननगर" से छोटा कर "गाजियाबाद" कर दिया गया। कुछ लोगों का कहना है कि गाजी-उद-दीन एक क्रूर शासक था, जिसने यहां तबाही मचाई थी। इसलिए वे गाजियाबाद का नाम परिवर्तन चाहते हैं।