पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मोदीनगर में छात्रों ने मनाया काला दिवस:आरक्षण विरोधी आंदोलन में मारे गए छात्रों की याद में निकाला जुलूस, शहीद का दर्जा देने की मांग की

मोदीनगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गाजियाबाद जिले के मोदीनगर कस्बा में छात्रों ने सोमवार को काला दिवस मनाया। उन्होंने आरक्षण विरोधी आंदोलन में पुलिस की गोली से मारे गए छात्रों की याद में मार्च निकाला। इस दौरान एमएम डिग्री कॉलेज को छात्रों ने शाम चार बजे कॉलेज से तहसील पहुंचे। यहां एसडीएम को शहीद दिवस मनाने के लिए ज्ञापन दिया।

26 सितंबर 1990 को आरक्षण विरोधी आंदोलन में पुलिस की गोली से एमएम डिग्री कॉलेज के दो छात्र युवराज व संजय कौशिक की मौत हो गई थी। इसके बाद से ही छात्र प्रत्येक वर्ष 26 सितंबर को काला दिवस के रूप में मनाते आ रहे हैं। इसी कड़ी में सोमवार सुबह छात्र डिग्री कॉलेज परिसर में एकत्र हुए। परिसर में लगी छात्र युवराज की प्रतिमा पर छात्रों ने माल्यार्पण किया।

एसडीएम व थाना प्रभारी को ज्ञापन दिया

इसके बाद छात्र जुलूस निकालते हुए दिल्ली-मेरठ मार्ग से होते हुए गोविन्दपुरी कॉलोनी पहुंचे। यहां पर लगी संजय कौशिक की प्रतिमा पर भी माल्यार्पण किया। इसके बाद वह धरने पर बैठ गए। छात्रों ने हाथ में मृतक छात्रों को शहीद का दर्जा दिए जाने की तख्ती ले रखी थी। शाम चार बजे के आसपास छात्र जुलूस के रुप में मोदीनगर तहसील पहुंचे। यहां अपनी मांगों का एक ज्ञापन एसडीएम शुभांगी शुक्ला व थाना प्रभारी योगेंद्र सिंह को दिया।

इस मौके पर यह लोग मौजूद रहे

छात्रों की मांग थी कि राज चौपले को शहीद चौक घोषित किया जाए। छात्र युवराज व संजय कौशिक की याद में शहर में एक स्मारक बनाया जाए। इसके अलावा आरक्षण के इस प्रारूप को खत्म किया जाए। इस मौके पर रवि अमराला, विशाल नेहरा, योगेश तिवारी, गौरव शर्मा, प्रियांशु सिंघल, शक्ति, अर्जून ढिड़ाला सहित सैकड़ों छात्र मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...