पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजियाबाद में PFI सदस्य के घर ATS की छापेमारी:महिलाओं ने टीम को घेरा, धक्का-मुक्की और हाथापाई; आरोपी को भगाया

मोदीनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एटीएस की टीम परवेज को पकड़ने के लिए पहुंची थी। - Money Bhaskar
एटीएस की टीम परवेज को पकड़ने के लिए पहुंची थी।

गाजियाबाद के भोजपुर में गुरुवार की तड़के 5 बजे एटीएस ने छापेमारी की। इस दौरान पीएफआई के सदस्य परवेज आलम को पकड़ लिया। महिलाओं ने टीम को घेरकर हंगामा करना शुरू कर दिया। इस बीच मौके का फायदा उठाकर आरोपी फरार हो गया। टीम ने पिता और भाई को हिरासत में लिया है।

एटीएस ने स्थानीय पुलिस के साथ गांव कलछीना में पीएफआई के सदस्य परवेज आलम के मकान में छापेमारी की।

महिलाओं ने जताया कार्रवाई का विरोध

छापेमारी के दौरान टीम ने परवेज आलम को पकड़ लिया। टीम उसे लेकर जा रही थी। इस बीच गांव में शोर मच गया। महिलाओं ने टीम को घेर लिया। वे इस कार्रवाई का विरोध जताने लगीं। उन्होंने एटीएस के साथ धक्का-मुक्की और हाथापाई भी की। इस बीच हंगामे का लाभ उठाकर परवेज फरार हो गया।

घर से मिले थे भड़काऊ पोस्टर

स्थानीय लोगों के अनुसार परवेज का विवादों से पुराना नाता रहा है। इससे पहले भी उसके घर से भड़काऊ पोस्टर और अन्य सामग्री मिली थी। मामले में उसे मेरठ से जेल भेजा गया था। परवेज के फरार होने के बाद पुलिस ने उसके पिता और भाई को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने दोनों ने भोजपुर थाने में बैठाए रखा। इस दौरान उनसे पूछताछ होती रही।

गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में एटीएस ने छापेमारी की।
गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में एटीएस ने छापेमारी की।
गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में एटीएस की छापेमारी के दौरान ग्रामीण एक-दूसरे से जानकारी लेते रहे।
गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में एटीएस की छापेमारी के दौरान ग्रामीण एक-दूसरे से जानकारी लेते रहे।
गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में इसी मकान में एटीएस ने की थी छापेमारी।
गाजियाबाद के भोजपुर में गांव कलछीना में इसी मकान में एटीएस ने की थी छापेमारी।

एनआइए टीम पर भी हुआ था हमला

दिसंबर 2017 में एनआईए की टीम भोजपुर के नहाली गांव में मलूक को गिरफ्तार करने आई थी। उस समय मलूक और उसके साथियों ने टीम पर हमला कर दिया था। इसमें टीम के कई सदस्य घायल हो गए थे। मलूक पर पंजाब में आरएसएस के पदाधिकारी की हत्या में शामिल हमलावरों को हथियार उपलब्ध कराने का आरोप था।

खबरें और भी हैं...