पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नोएडा में हंसराज प्लाजा में लगी आग:बिना फायर एनओसी के चल रहा था टॉवर,शॉर्ट सर्किट बताई जा रही आग लगने की वजह

नोएडा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निठारी में हंसराज टॉवर में भीषण आग लग गई। बेसमेंट में लगी आग से धुंए का गुब्बार से आसपास के क्षेत्र में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर मौके पर दमकल विभाग के सीएफओ, एफएसओ के अलावा डीसीपी, एडीसीपी के साथ-साथ तीन थानों का पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। सीएफओ एके सिंह ने आग बुझाने की खुद कमान संभाली हुई थी। करीब दो दर्जन से अधिक फायरकर्मियों ने दो घंटे में आग पर काबू पा लिया।

हालांकि धुएं से फायरकर्मियों का भी बुरा हाल हो रहा था। आग बुझाने की कार्रवाई में एक दर्जन से अधिक गाड़ियों को लगाया गया था। जबकि दर्जनों गाड़ियां पानी लेकर मौके पर पहुंच रही थी। सेक्टर-31 स्थित निठारी मैन रोड पर हंसराज टॉवर है। इसमें सौ से अधिक दुकानें, ऑफिस हैं। सोमवार को करीब 1.20 बजे दमकल विभाग को टॉवर में लगी आग की सूचना मिली थी। सूचना मिलते ही मौके पर सीएफओ, फेस वन एफएसओ और सेक्टर-58 एफएसओ मौके पर पहुंच गए। साथ ही दमकल कर्मी भी फायर टेंडर लेकर मौके पर पहुंच गए।

फायर विभाग की एनओसी के बिना चल रहा था पांच मंजिला टॉवर
निठारी स्थित हंसराज टॉवर करीब पांच मंजिला है। जिसमें बेसमेंट अलग से है। इस टॉवर में सौ से अधिक दुकानें और ऑफिस है। जिसमें सैकड़ों लोग अपना व्यवसाए करते हैं। कई सालों से चल रहा यह टॉवर बिना एनओसी के चल रहा था। बताया जा रहा है कि टॉवर लाल डोरा में बना हुआ है। जिससे उसे कभी एनओसी नहीं मिल सकती है। सीएफओ ने बताया कि लालडोरा की बनी जमीन पर बने टॉवर को एनओसी जारी नहीं की जा सकती है। ऐसे में उसके खिलाफ नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी

तीसरे तल पर फंसे लोगों को पीछे की तरफ सीढ़ी लगाकर उतारा
बेसमेंट में आग लगने से धुंआं ऊपर तक जा रहा था। ऐसे में तीसरे तल पर करीब आधा दर्जन लोग फंसे हुए थे। जिससे उन्हें बचाना फायर विभाग के लिए चुनौती बना हुआ था। फायर विभाग ने पीछे की तरफ सीढ़ी लगाकर बिल्डिंग में फंसे लोगों को निकाला। यदि उन्हें नहीं निकाला जाता, तो धुएं का गुब्बार इस कदर बना हुआ था। जिससे कोई अनहोनी हो सकती थी। सीएफओ ने बताया कि करीब छह से सात लोग फंसे हुए थे। सभी को समय रहते तृतीय तल से पीछे के रास्ते सीढ़ी लगाकर उतार लिया गया।

दिल्ली कांड से सबक लेते हुए पुलिस ने नहीं लिया कोई रिस्क
दिल्ली में अग्निकांड में 27 लोगों की मौत से सबक लेते हुए पुलिस कोई भी रिस्क नहीं लिया है। आग की सूचना मिलते ही फायर विभाग के सीएफओ और एफएसओ समेत करीब दो दर्जन कर्मचारी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने तत्काल आग बुझाने का खुद से प्रयास शुरू कर दिया। पूरी मुस्तैदी के साथ आग बुझाने का प्रयास किया जाने लगा। इधर पुलिस ने भी वायरलेस कर थाना सेक्टर- 20, सेक्टर-24 और सेक्टर-39 के पहुंचने का निर्देश दिया। सूचना मिलते ही सभी एसएचओ और पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच गए। इसके साथ ही डीसीपी राजेश एस और एडीसीपी रणविजय सिंह भी मौके पर पहुंच गए। सभी ने मौके का निरीक्षण किया। साथ ही पुलिसकर्मियों ने ट्रैफिक व्यवस्था को संभाला। जिससे आसानी ने फायर टेंडर मौके पर पहुंच रहे थे।

आग के गुब्बार से आसपास के लोगों का बुरा
आग का गुब्बार इस कदर फैल रहा था। इससे जहां निठारी में रहने वाले लोगों को परेशानी हो रही थी। वहीं सेक्टर-26 के लोगों का भी जीना मुहाल हो रहा था। चूंकि आग के गुब्बार से पूरा बादल काला हो रखा था। वहां पर खड़ें लोगों को तो सांस लेना मुश्किल हो रहा था। हालांकि आग का गुब्बार देकर आसपास के लोग भारी संख्या में पहुंच रहे थे। जिससे वहां पर जाम जैसी स्थिति बनी हुई थी। जिन्हें पुलिस ने मौके से भगा दिया।

खबरें और भी हैं...