पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निषाद समाज ने आरक्षण की मांग पर सरकार को घेरा:विकास को लेकर उपचुनाव में भी ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया था, फिर मुखर की आवाज

टूण्डला, आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चुनाव आते ही फिर एक बार निषाद समाज के लोगों ने आरक्षण को लेकर आवाज बुलंद कर दी है। सोमवार को ग्रामीणों ने सरकार के विरोध में नारेबाजी कर केंद्र सरकार से निषाद समाज के लोगों को आरक्षण देने की मांग की। विकास को लेकर उपचुनाव में भी ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया था।

सोमवार दोपहर ग्राम पंचायत धीरपुरा के गांव नगला कदम, घुरुकुआ में निषाद समाज के लोगों ने केंद्र सरकार पर निषाद समाज को उसका हक न देने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की। लीलाधर वर्मा ने कहा कि जब तक निषाद समाज को केंद्र सरकार आरक्षण नहीं देगी तब तक हम सरकार का विरोध करते रहेंगे। विधानसभा के उपचुनाव में भी ग्रामीण मतदान का बहिष्कार कर अपना रुख साफ कर चुके हैं। यदि आरक्षण नहीं मिला तो प्रत्याशियों को गांव में प्रवेश नहीं करने देंगे। सरकार ने जो विकास को लेकर वायदे किए थे, वो भी अभी तक पूरे नहीं हो पाए हैं।

जनता विकास के लिए प्रत्याशी को अपना बहुमूल्य मत देकर विधानसभा भेजती है, लेकिन जीतने के बाद कोई भी नेता जनता की सुध नहीं लेता है। ग्रामीण आरक्षण नहीं तो वोट नहीं के फार्मूले पर काम करेंगे। विरोध करने वालों में भगवान सिंह निषाद, सत्यप्रकाश वर्मा, गनपत सिंह, सतीश कुमार, मुकेश कुमार, तिलक सिंह, तुलसीराम, अनेक सिंह, आलोक कुमार, प्रदीप कुमार, बंटू निषाद आदि प्रमुख हैं।