पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Firozabad
  • Mother Seer Devi Is Miraculous For The Politics Of Firozabad: Raj Babbar Had Bowed Down And Won The Election, Akhilesh Had Announced The Restoration Of The Temple.

फिरोजाबाद की राजनीति के लिए चमत्कारिक हैं माता सीयर देवी:राजबब्बर ने टेका था मत्था और जीत गए थे चुनाव, अखिलेश ने की थी मंदिर के जीर्णोंद्धार की घोषणा।

फिरोजाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फिरोजाबाद जिले की राजनीति माता सीयर देवी के बिना अधूरी है। - Money Bhaskar
फिरोजाबाद जिले की राजनीति माता सीयर देवी के बिना अधूरी है।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों की सुगबुगाहट तेज हो गई है। वोटरों को रिझाने के लिए बैठकों का दौर शुरू हो गया है। कुछ दिनों बाद यहां विभिन्न पार्टी के नेताओं की सभाएं शुरू होंगी लेकिन यूपी के इस फिरोजाबाद जिले की राजनीति माता सीयर देवी के बिना अधूरी है या यूं कहें कि इस माता के मंदिर में मत्था टेके बिना जीत संभव नहीं है। चुनाव आते ही इस मंदिर पर सिर झुकाने वाले विभिन्न पार्टी के नेताओं की लाइन लग जाती है। इस देवी को निषाद समाज की कुलदेवी के रूप में भी पूजा जाता है।

राजबब्बर ने जीता था चुनाव

फिरोजाबाद में वर्ष 2009 का लोकसभा चुनाव काफी दिलचस्प हुआ था, जिसमें सपा मुखिया अखिलेश यादव की धर्मपत्नी डिंपल यादव उपचुनाव लड़ी थीं। जबकि कांग्रेस ने राजबब्बर को प्रत्याशी घोषित किया था। इससे पहले अखिलेश यादव ने कन्नौज जीतने पर यहां की सीट को छोड़ दिया था। उसी सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पत्नी डिंपल यादव को चुनाव लड़ाया था और क्षेत्र की जनता ने उन्हें हरा दिया था। इसके पीछे खादरों में बसी माता सीयर देवी माता का चमत्कार भी बताया जा रहा है। चुनाव लड़ने से पहले राजबब्बर ने इस माता के मंदिर पर मत्था टेका था और विजय के लिए आशीर्वाद लिया था। चुनाव जीतने के बाद राजबब्बर ने इस देवी के मंदिर पर चबूतरे और रेलिंग का निर्माण कराया था।

राजबब्बर ने इस माता के मंदिर पर मत्था टेका था और विजय के लिए आशीर्वाद लिया था।
राजबब्बर ने इस माता के मंदिर पर मत्था टेका था और विजय के लिए आशीर्वाद लिया था।

अखिलेश यादव ने की थी घोषणा

पूर्व मुख्यमंत्री व सपा मुखिया अखिलेश यादव 5 अप्रैल को थाना नगला सिंघी क्षेत्र के कोट कसौंदी स्थित माता सीयर देवी के मंदिर पर आए थे। जहां उन्होंने हवन पूजन करते हुए निषाद समाज के वोटरों को लुभाने का काम किया था। बता दें कि माता सीयर देवी निषाद समाज की कुलदेवी हैं। इस मंदिर से समूचे निषाद समाज की आस्था और श्रद्धा जुड़ी हुई है। मंदिर में पूजा अर्चना करने के साथ ही सरकार में आने पर इस क्षेत्र का विकास कराने के लिए कहा था। इससे पहले भी अखिलेश यादव इस क्षेत्र में जनसभाएं कर चुके हैं।

बीजेपी ने जारी कराए 50 लाख

अखिलेश यादव की घोषणा के बाद बीजेपी ने इस क्षेत्र को पर्यटक क्षेत्र विकसित कराए जाने के उद्देश्य से 50 लाख रुपए का बजट स्वीकृत कर दिया। टूंडला विधायक प्रेमपाल सिंह धनगर ने बताया कि माता सीयर देवी मंदिर से सभी की आस्था जुड़ी हुई है। बीजेपी सदैव मंदिरों के जीर्णोद्धार और विकास के लिए काम करती आई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा इस क्षेत्र के विकास के लिए 50 लाख की धनराशि स्वीकृत की गई है। इससे मंदिर की भव्यता और बढ़ेगी।

अखिलेश यादव 5 अप्रैल को थाना नगला सिंघी क्षेत्र के कोट कसौंदी स्थित माता सीयर देवी के मंदिर पर आए थे।
अखिलेश यादव 5 अप्रैल को थाना नगला सिंघी क्षेत्र के कोट कसौंदी स्थित माता सीयर देवी के मंदिर पर आए थे।

प्राचीन है मंदिर का इतिहास

नगला सिंघी क्षेत्र के बीहड़ में स्थित कोट कसौंदी में माता सियर देवी का मंदिर है। इस मंदिर का इतिहास आला और ऊदल के जमाने से हैं। सियरदेवी निषाद समाज की कुलदेवी के रूप में जानी जाती हैं इसलिए जिले के टूण्डला इलाके में इस मंदिर की काफी मान्यता है। टूण्डला विधानसभा सीट से जो भी प्रत्याशी चुनाव लड़ता है, वह इस मंदिर में मत्था टेकने जरूर जाता है, चाहें वह किसी पार्टी का हो या फिर जाति, धर्म का। राजनीतिक लोगों का विश्वास है कि यहां मत्था टेकने से न केवल इस विधानसभा इलाके में बल्कि प्रदेश भर की सभी सीटों पर उसे विजय मिलती है।

खबरें और भी हैं...