पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Firozabad
  • Lucknow Team Kept Taking Condition, 7 More Died Due To Dengue: 198 Killed In Firozabad So Far, 242 Admitted In 100 Bed Hospital, Increasing Number Of Patients In Private Hospitals

फिरोजाबाद में डेंगू से अब तक 198 मौतें:24 घंटे में 7 और की जान गई, 100 बेड के अस्पताल में 242 भर्ती; लखनऊ की टीम ले रही हाल

फिरोजाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में मरने वालों का आंकड़ा 198 पहुंच गया।

फिरोजाबाद में डेंगू का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। गुरुवार को लखनऊ से आई मंडल के सर्विलांस अधिकारी डॉ. अखिलेश्वर सिंह की टीम ने मेडिकल कॉलेज में जाकर मरीजों का हालचाल लिया। उधर, 24 घंटे में 4 बच्चों समेत 7 लोगों की डेंगू से मौत हो गई। जिले में मरने वालों का आंकड़ा अब 198 पहुंचा गया है। राजकीय मेडिकल कॉलेज स्थित 100 बेड के अस्पताल में डेंगू-वायरल से पीड़ित 242 मरीज भर्ती हैं। अब निजी अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढ़ रही है।

24 घंटे में इनकी गई जान
थाना टूंडला क्षेत्र के भौंड़ेला की रहने वाली प्रज्ञा (डेढ़ साल) की मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई। थाना नारखी क्षेत्र के आतीपुर के रहने वाले शहनाज (14) पुत्री साबिर खान और सनाजा (16) पुत्री जुल्फी खान की उनके घर पर ही मौत हो गई। थाना नगला सिंघी क्षेत्र के गांव ठार हाथी की लक्ष्मी (7) पुत्री गीतम सिंह की प्राइवेट अस्पताल में मौत हो गई।

मखनपुर के गोविंदपुर के रहने वाले राम रतन (35) पुत्र हरी सिंह की सरकारी ट्रामा सेंटर में मौत हुई है। टूंडला के सूर्य नगर की माला देवी (45) पत्नी नेत्रपाल सिंह की प्राइवेट अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। मक्खनपुर के रूपसपुर इस्लाम टेलर निवासी (45) पुत्र फरीद खान की प्राइवेट अस्पताल में बुखार से मौत हो गई।

निजी अस्पताल में तैनात बाल रोग विशेषज्ञों के यहां पहले 500 से अधिक ओपीडी थी और अब यह ओपीडी 600 तक पहुंच गई है।
निजी अस्पताल में तैनात बाल रोग विशेषज्ञों के यहां पहले 500 से अधिक ओपीडी थी और अब यह ओपीडी 600 तक पहुंच गई है।

प्राइवेट हॉस्पिटल में एक बेड पर दो-दो मरीज हो रहे भर्ती
शहर में निजी अस्पताल में तैनात बाल रोग विशेषज्ञों के यहां पहले 500 से अधिक ओपीडी थी और अब यह ओपीडी 600 तक पहुंच गई है। प्राइवेट अस्पतालों में बेड फुल हैं। एक बेड पर दो मरीज भर्ती किए जा रहे हैं। नए इलाकों से आ रहे मरीज स्वास्थ्य विभाग के लिए चिंता का कारण बने हुए हैं।

डाक्टरों की मानें तो डेंगू का कहर कम हुआ है।
डाक्टरों की मानें तो डेंगू का कहर कम हुआ है।

दहशत नहीं हो रही कम
डाक्टरों की मानें तो डेंगू का कहर कम हुआ है। हालांकि, खून की जांच में डेंगू के कम मरीज मिल रहे हैं, लेकिन दहशत कम नहीं हो रही है। बाल रोग विभागाध्यक्ष डॉ. एलके गुप्ता ने बताया कि ऐसे लोग भी अपने बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराना चाहते हैं, जिनके खून में प्लेटलेट्स काउंट की मात्रा 50 हजार से अधिक होती है। डाॅक्टर की सलाह के बाद भी कई तीमारदार अपने मरीजों को जल्द घर ले जाने से कतराते हैं। उन्हें आशंका रहती है घर पर मरीज की हालत बिगड़ जाएगी।

राजकीय मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य डॉ. संगीता अनेजा ने कहा कि मरीजों की संख्या में कुछ कमी आई है। नए मरीजों में गंभीर लक्षण नहीं हैं। वर्तमान में 100 बेड अस्पताल में 242 बच्चे भर्ती हैं। मरीजों का उचित इलाज किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...