पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Firozabad
  • Dengue Patients Started Increasing Again In Firozabad: 100 Bed Hospitalized Patients Cross 300, 100 Discharged; Health Department Has Distributed 3 Lakh Paracetamol So Far

फिरोजाबाद में फिर बढ़ने लगे डेंगू के मरीज:100 बेड अस्पताल में भर्ती मरीज 300 के पार, 24 घंटे में 147 मरीज भर्ती, 100 डिस्चार्ज; अब तक 3 लाख पेरासिटामॉल बांट चुका स्वास्थ्य विभाग

फिरोजाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एक बार फिर मरीजोें की संख्या में इजाफा होने लगा है। - Money Bhaskar
एक बार फिर मरीजोें की संख्या में इजाफा होने लगा है।

फिरोजाबाद में डेंगू और बुखार से पीड़ित 200 से अधिक मरीजों की मौत के बाद कुछ दिन राहत भरे रहे, लेकिन अब एक बार फिर मरीजोें की संख्या में इजाफा होने लगा है। मेडिकल कॉलेज में मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। वहीं, प्राइवेट अस्पतालोें का मंजर भी काफी भयावह है। डॉक्टर को दिखाने के लिए मरीजों के बीच जद्दोजहद मची हुई है। रविवार शाम तक मेडिकल कॉलेज में 300 से अधिक मरीज भर्ती थे।

मेडिकल कॉलेज में विगत 10 दिनों से कुछ राहत थी। ओपीडी में प्रतिदिन 150 से 200 मरीजों की जांच की जा रही थी, इनमें से गंभीर मरीजों को भर्ती भी किया जा रहा था लेकिन अब 10 दिन बाद अचानक मरीजों की संख्या में इजाफा हो गया। 24 घंटे के अंदर 147 मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। रविवार शाम तक 301 मरीज मेडिकल कॉलेज में भर्ती थे। जबकि इनमें से देर रात्रि या सोमवार सुबह कुछ मरीजों को घर भेज दिया गया।

सौ शैय्या अस्पताल से प्रतिदिन 100 से ज्यादा मरीज डिस्चार्ज किए जा रहे हैं। इसके बाद भी मरीजों की संख्या में कमी नहीं हो रही है। वर्तमान में अस्पताल में डेंगू से पीड़ित 41 मरीज भर्ती है। इधर, ट्रॉमा सेंटर में भी मरीजों को भर्ती करने के लिए जगह नहीं है।

घरों पर झोलाछापों से बच्चों को इलाज कराया जा रहा है।
घरों पर झोलाछापों से बच्चों को इलाज कराया जा रहा है।

गली मोहल्लों के क्लीनिकों पर लग रही भीड़

जिले के गली-मोहल्लों में स्थित क्लीनिकों पर भीड़ नजर आ रही है। शहर के प्रमुख अस्पतालों में भर्ती नहीं किए जाने पर मरीज गली-मोहल्लों में स्थित क्लीनिकों पर उपचार कराने को मजबूर हैं। वहां मरीजों की भीड़ अधिक होने पर निजी चिकित्सकों द्वारा इंतजाम भी नहीं किए जा रहे हैं। मेडिकल कॉलेज की प्राचार्या डॉ. संगीता अनेजा ने बताया कि अस्पताल में अभी 285 मरीज भर्ती हैं। इनके इलाज के लिए करीब 40 डॉक्टर तैनात हैं। प्रतिदिन भर्ती हो रहे हैं और ठीक होकर घर भी जा रहे हैं।

बढ़ी पेरासीटामोल की खपत

जिले में बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही बुखार को दूर करने वाली पेरासीटामोल टेबलेट की खपत भी बढ़ गई है। जिले भर में अनुमानित करीब 40 हजार से ज्यादा लोग वायरल और डेंगू से पीड़ित हैं। गांव के गांव वायरल की चपेट में आ गए। 232 मरीज अब तक इलाज के दौरान दम तोड़ चुके हैं।

मेडिकल कॉलेज और सीएचसी फुल हैं। आलम यह है कि स्वास्थ्य विभाग गांव-गांव कैंप कर दवा वितरित रहा है। दोनों बीमारियों से पीड़ित मरीजों को चिकित्सक पैरासीटामोल टेबलेट खाने की सलाह दे रहे हैं। एक दिन में मरीज तीन से चार टैबलेट ले रहा है।

ऐसे में एक माह में डेंगू और वायरल के प्रकोप के बीच पैरासीटामोल की खपत तेजी से बढ़ गई है। तीन लाख से अधिक टैबलेट स्वास्थ्य विभाग मरीजों को बांट चुका है। सीएमओ डॉ. दिनेश प्रेमी का कहना है कि बुखार में पेरासीटामोल ही दिया जाता है। अचानक से मरीजों की संख्या बढ़ने के कारण टेबलेट की डिमांड भी अधिक बढ़ी है।

खबरें और भी हैं...