पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लाइफ को यस बोलना है, ड्रग्स को नो बोलना है:फतेहपुर में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस , एनसीसी कैडेट्स को दिलाई गई शपथ, गांव-गांव जाकर किया जाएगा जागरूक

फतेहपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूरे विश्व में रविवार को अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस 2022 मनाया जा रहा है। फतेहपुर में लोगों को नशा मुक्त रहने के लिए बच्चों को जागरूक किया गया। इस अभियान के तहत 450 NCC कैडेट्स गांव-गांव में जाकर समाज के लोगों को नशे के प्रति जागरूक करेंगे। नशे से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में लोगों को जानकारी देंगे।

शहर के महर्षि विद्या मंदिर विद्यालय में इस मौके पर NCC कैडेटों के संयोजन से भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में कर्नल ओपी शर्मा ने बच्चों को नशे से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा नशा मुक्त जीवन जीने के लिए शपथ दिलाई। छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए कर्नल ओपी शर्मा ने कहा कि नशे के कारण देश की अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचता है और देश अंदर ही अंदर खोखला हों जाता है।

फतेहपुर में मनाया गया विश्व ड्रग दिवस।
फतेहपुर में मनाया गया विश्व ड्रग दिवस।

नशीले पदार्थों के सेवन से होती है बीमारियां
कर्नल ओपी शर्मा ने कहा," नशीले पदार्थों के सेवन करने से विभिन्न प्रकार की बीमारियां जन्म लेती है, जिससे समाज के लोगों को शारीरिक और आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचता है। उन्होंने कहा इस अभियान को 450 एनसीसी कैडेट्स गांव में लेकर जाएंगे और वहां लोगों को नशे से होने वाली हानियों के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए समाज के लोगों को जागरूक करेंगे।"

छात्रों को दिलाई गई शपथ
छात्रों को दिलाई गई शपथ

1989 में पहली बार मनाया गया था यह दिवस
हर साल 26 जून को विश्व स्तर पर नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस या विश्व ड्रग दिवस के रूप में मनाया जाता है। बता दें कि विश्व ड्रग दिवस की शुरुआत 26 जून 1989 को हुई थी, जबकि नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस के उत्सव को 7 दिसंबर 1987 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा पारित प्रस्ताव 42/112 के तहत पारित किया था।

खबरें और भी हैं...