पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फतेहपुर में बाढ़ का कहर:सड़क पर बह रहा पानी, 6 गांवों से टूटा संपर्क; DM ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा

फतेहपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहपुर में बाढ़ का कहर। - Money Bhaskar
फतेहपुर में बाढ़ का कहर।

फतेहपुर जिले में गंगा नदी में आई बाढ़ ने कटरी क्षेत्र में तबाही मचा रखी है। बाढ़ से कटरी क्षेत्र के 20 गांव प्रभावित हुए हैं। वहीं सड़क के ऊपर पानी भरने से आधा दर्जन गांवों से संपर्क टूट गया है। यहां तक कि अधिकारी भी प्रभावित क्षेत्र में नहीं पहुंच पा रहे हैं। हालांकि डीएम अपूर्वा दुबे दो दिनों से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर ग्रामीणों को सुरक्षित जगह पहुंचाने के साथ भोजन और पानी की व्यवस्था करने का अधिकारियों को निर्देश दिया है।

बता दें कि जिले के जहानाबाद विधानसभा क्षेत्र के मलवां विकासखंड के गंगा कटरी के अभयपुर और आशापुर ग्राम सभा के गांवों में बाढ़ की विभीषिका का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बाढ़ के पानी से किसानों को काफी नुकसान हुआ है। करीब 40 बीघा खेतों में लगी फसल, सब्जी सब बर्बाद हो गई है।

फतेहपुर में बाढ़ का कहर।
फतेहपुर में बाढ़ का कहर।

डीएम ने सुनी ग्रामीणों की समस्या

डीएम अपूर्वा दुबे ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा करने पहुंची, जहां बाढ़ से घिरे सदनहा, कालीकुंडी, टापू बने बिंदकी फार्म डीएम नहीं पहुंच सकीं, क्याकि हाईवे से बाढ़ प्रभावित गांवों को जोड़ने वाली सड़क में बड़ाखेड़ा के आगे चार से 5 फीट पानी बह रहा था। बड़ाखेड़ा, नया खेड़ा, दरियापुर कटरी, मल्लू खेड़ा के ग्रामीणों से डीएम अपूर्वा दुबे ने समस्या सुनकर सभी को बाढ़ राहत कैंप में जाने को कहा और अधिकारियों से बाढ़ राहत शिविर, सतर्कता के बारे में फीडबैक लेकर बाढ़ राहत शिविर महुआ घाटी की साफ-सफाई व्यवस्था को देखा।

बाढ़ के कारण स्कूलों में की गई छुट्टी

बाढ़ का पानी बिंदकी फार्म और सदनहा विद्यालयों में भर गया है। सड़क पर पानी भर जाने से इन गांवों की आवाजाही बंद हो गई है। सदनहा प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक रविशंकर मिश्रा और बिंदकी फार्म प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापक स्वेता सिंह सड़क में भरे पानी के पास मौजूद थीं, जहां दोनों प्रधानाध्यापकों ने बताया कि मंगलवार से जलस्तर बढ़ रहा है। बढ़ रहे जलस्तर को देख छात्रों की छुट्टी कर दी गई थी। डीएम ने स्कूलों को पानी कम होने तक पूरी तरह से बंद रखने का निर्देश दिया है।

गांवों में घुसा बाढ़ का पानी।
गांवों में घुसा बाढ़ का पानी।

स्वास्थ्य विभाग की गैर मौजूदगी पर नाराजगी जाहिर की

बाढ़ की समस्या से रुबरु होने पहुंचीं डीएम अपूर्वा दुबे ने स्वास्थ्य विभाग की गैर मौजूदगी पर नाराजगी जाहिर की और सीएमओ को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में डेंगू-बुखार से निपटने को लेकर दवा का छिड़काव करने का निर्देश दिया। हालांकि जिलाधिकारी के जाते ही टेंट से मातहत भी नदारत हो गए। सफाई कर्मी आराम फरमा रहे थे। पूरी तरह से जिम्मेदार फर्ज अदायगी कर चले गए थे। मौके पर जिन लेखपालों की ड्यूटी लगाई गई थी, वही मौजूद मिले।

जिलाधिकारी ने दी जानकारी

जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने बताया कि बाढ़ कि समस्या को देखते हुए विस्थापित करने के लिए विद्यालय और बाढ़ चौकी महुआ घाटी को राहत शिविर बनाया गया है। राहत कैंप में भोजन पानी की पूरी व्यवस्था की गई है। बाढ़ का पानी स्कूलों में भर जाने के कारण बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के विद्यालय पानी कम होने तक बंद रखने का निर्देश दिया गया है। कुछ गांव के रास्तों में बाढ़ का पानी सड़क के ऊपर से बह रहा है। उन गांवों में नाव से अधिकारियों को पहुंचने का निर्देश दिया गया है।

खबरें और भी हैं...